डकैती के मामलों में आरोपियों की जमानत खारिज

0
46

सुल्तानपुर(ब्यूरो)– डकैती, दहेज हत्या व फर्जीवाड़ा कर बैनामा कराने के अलग-अलग मामलों में महिला समेत चार आरोपियों की तरफ से एडीजे सप्तम की अदालत में जमानत अर्जी प्रस्तुत की गई। जिस पर सुनवाई के पश्चात अपर सत्र न्यायाधीश अजय कुमार दीक्षित ने आरोपियों की जमानत खारिज कर दी।

पहला व दूसरा मामला मुसाफिरखाना थानाक्षेत्र का है। जहां पर बीते 20 मार्च व 29 मार्च की रात में हुई अलग-अलग डकैती के मामलों में अभियोगी राम अहोर यादव निवासी काशीपुर नरायनपुर व रामसूरत निवासी अखरा थानाक्षेत्र मुसाफिरखाना के जरिये अज्ञात लोगों द्वारा डकैती किए जाने के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया गया। दोनों ही मामलों में तफ्तीश के दौरान आरोपी मुकेश मिश्रा समेत अन्य का नाम प्रकाश में आया।

आरोपी मुकेश मिश्रा की तरफ से दोनों मामलों में जमानत अर्जियां प्रस्तुत की गई। जिस पर सुनवाई के दौरान शासकीय अधिवक्ता रमेश चन्द्र यादव ने बचाव पक्ष के तर्कों को निराधार बताते हुए जमानत पर विरोध जताया। तत्पश्चात अदालत ने जमानत अर्जी खारिज कर दी।

तीसरा मामला भी मुसाफिरखाना थाना क्षेत्र से ही जुड़ा है। जहां पर फर्जीवाड़ा कर बैनामा कराये जाने के मामले में वादी कमलजीत सिंह ने आशिया निवासिनी कचनांव- जगदीशपुर समेत पांच के खिलाफ गंभीर धाराओं में 23 जुलाई 2015 को मुकदमा दर्ज कराया। इसी मामले में आशिया की तरफ से प्रस्तुत जमानत अर्जी को भी उभयपक्षों की बहस सुनने के पश्चात अदालत ने खारिज कर दिया।

चौथा मामला धम्मौर थानाक्षेत्र के कंचनावा गांव से जुड़ा है। जहां के रहने वाले गंगासागर, उसके भाई रामसागर व उनकी मां ममता के खिलाफ दहेज की मांग न पूरी होने के चलते लाइसेंसी बंदूक से गोली मारकर अपनी पुत्री लवली की हत्या किये जाने के बावत अभियोगी भवानीशंकर दूबे-बिकना ने मुकदमा दर्ज कराया है।

इसी मामले में आरोपी पति गंगासागर तिवारी की तरफ से प्रस्तुत जमानत अर्जी को सुनवाई के पश्चात सत्र न्यायाधीश अजय कुमार दीक्षित ने खारिज कर दिया है।

रिपोर्ट-दीपक शर्मा

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY