कुंए में गिरने से बारहसिंहा घायल, देखने को गांव में लगा मजमा

0
42


लालगंज/प्रतापगढ़ (ब्यूरो) कोतवाली के लोहंगपुर पंडित का पुरवा में शनिवार को अचानक एक बारहसिंहा हिरन दिखाई दिया। ग्रामीणों ने खदेड़ा तो हिरन भागता हुए आलम शेर की ट्यूबवेल के कुंए में जा गिरा। बारहसिंहा के ट्यूबवेल में गिरा होने की जानकारी मिलने पर सौ नंबर पुलिस सेवा के साथ ही फायर बिग्रेड की टीम मौके पर पहुंच गई। कुछ देर बाद लालगंज व कालाकांकर रेंज के वन विभाग कर्मचखरी भी पहुंच गए। कुंए में रस्सी डालकर निकालने का प्रयास किया लेकिन टीम को सफलता नहीं मिल सकी।

यह देख इलाके के मतऊ के पुरवा निवासी रमेश कुमार व रामसजीवन साहस दिखाते हुए कुंए में घुस गए और फायर ब्रिगेड की मदद से बारहसिंहा को करीब दो घंटे बाद बाहर निकाला गया। कुंए में गिरने से हिरन को कई जगह चोट आ गई। उसे गम्भीर रूप से जख्मी देख वन विभाग की टीम लालगंज पशु अस्पताल पहुंची। लेकिन अस्पताल में ताला लगा देख हिरन को लेकर कर्मचारी वन विभाग प्रभाग कार्यालय पहुंच गए। यहां गम्भीर रूप् से घायल हिरन की हालत नाजुक बनी हुई है। वन विभाग कर्मचारियों ने पशु अस्पताल के चिकित्सकों को सूचना दिया लेकिन वह दो घंटे बाद भी नहीं पहुंच सके। शाम करीब सात बजे उसका इलाज चिकित्सकों ने किया तब जाकर हिरन को राहत मिल सकी। इसके बाद वन विभाग की देखरेख में उसे रखा गया है। बताया जाता है कि गौखाड़ी जंगल में हिरन की प्रजातियां रहती हैं, यहां से ही बारहसिंहा विचरण करते हुए लोहंगपुर गांव पहुंच गया। कालाकांकर रेंज के रेंजर आरके सिंह ने बताया कि हिरन की देखभाल व इलाज के लिए लालगंज वन प्रभाग कार्यालय भेजा गया है। उपचार के बाद ठीक होने पर उसे जंगल में छोंड़ा जायेगा।

रिपोर्ट – चन्द्र शेखर तिवारी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY