कई दिनों से रोशनी के लिए तरस रहा है बरुणा गांव

0
115

भोजपुर(ब्यूरो)- बिहियां थाना क्षेत्र के बरुणा में आज 20 रोज पहले दूधिया रोशनी से जगमग करता दिखाई देता था मगर 15 दिन से उसी रोशनी के लिए बाट जोह रहे है| गांव के ग्रामीण बरुणा गांव के मिग्रेंद्र पासवान द्वारा बताया जाता की पहले बिजली पंद्रह से बीस घण्टे रहता था तो हमारे बेटा बेटी पढ़ते और पंखे में आराम से सो जाते थे, मगर आज तो ऊपर से भगवान गर्मी के वर्षा कर रहे है और नीचे बिजली वाले तमाशा कर रहे| कई दिनों से ट्रासफार्मर खराब पड़ा हुआ है, इसका को सुध लेना वाला कोई नही है| न आला अधिकारी आते है न कोई मैकेनिक आते है| हमे पिछले कई दिनों से कैसे गुजर बसर कर रहे है, हम ही जाने है और पूरा गांव के जानता है पर आला अधिकारी क्या जाने?

हाथ के पंखे के सहारे रात में सोने पर मजबूर गांव के ग्रामीण-

हमारे बच्चे कैसे पढ़ाई करते है और कैसे सोते है दिन में तो बच्चे पढ़ने चले जाते है और जब दोपहर में लौटते है तो गर्मी से बचाने के लिए पेड़ के सहारा लेते है| दोपहर भी बीत जाता है पर रात तो कटते नही कटती गर्मी के मारे बच्चों का रोना और चिलाना लगता, क्या करे कि बच्चो की नींद आ जाए और बच्चे सो जाए, बस उस समय एक ही सहारा रहता की दुकानों से खरीद कर ताड के पत्तो से बने पंखा से रात भर बच्चो को डोलाता रहता| तब बच्चे सोते सुबह होने पर लगता है अब जान में जान आई जब पेड़ के पत्ते डोलते और मधुर हवा चलती है|

ट्रासफार्मर खराब होने की सूचना जब हम पूरे गांव के लोगो द्वारा बिजली विभाग को दिये तो उन्होंने एक मिस्त्री को भेजे| जब मिस्त्री आया और ट्रासफार्मर को देख कर कहा कि इसमें का तेल खत्म हो गया है, आप लोग मंगाए हम लोग पूछे की तेल कितना लगेगा तो मिस्त्री बोला कि दस लीटर गांव के मद्दत से तेल मंगाया गया और ट्रासफार्मर में डाल कर मिस्त्री जो ही चालू की धुंधु कर ट्रासफार्मर जल कर राख हो गया और मिस्त्री वहां से धीरे से निकल गया| पूछने पर बताया भी नही कि आखिर क्यों हुआ? उस दिन तो लगा कि अब हमारी नींद गई| पहले तो ट्रासफार्मर खराब था तो लगता था कि आज नही तो कल बन जाएगा पर जब जल गया तो लगा की अब क्या होगा, कौन मद्दत करेगा? गांव के कुछ लोग थे, जिसमे बूढा पासवान, बटखरी शर्मा, सम्भु शर्मा, मंतोष पासवान, दीना सिंह, लालबिहारी सिंह, कलक्टर पासवान, मास्टर जी राजेश पासवान आदि लोगों ने बताया कि अगर दो दिनो हमारा ट्रासफार्मर नया नही लगा तो हमारे पूरा गांव के लोगों द्वारा बिजली विभाग की घेरने पर मजबूर हो जाएंगे| जब हम उस समय धेरेगे तो कोई भी अधिकारी को बकछने का काम भी नही करेंगे|

रिपोर्ट- रामाशंकर प्रसाद 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY