बस की चपेट में आने से पांच वर्षीय मासूम व उसके मौसा की दर्दनाक मौत

0
37

लालगंज/प्रतापगढ़(ब्यूरो)- सांगीपुर थाना क्षेत्र के बाजार इलाके में मंगलवार को बस की चपेट में आ जाने से एक मासूम व उसके मौसा की दर्दनाक मौत हो गई। वहीं मासूम की मां व बहन घायल हो गये। हादसे के बाद बस लेकर भाग रहे चालक को लोगों ने पकड़ लिया और चालक व परिचालक की जमकर धुनाई करने के बाद पुलिस के हवाले कर दिया है। हादसे के बाद पुलिस द्वारा जबरन शव कब्जे में लेकर जिला मुख्यालय चले जाने से नाराज लोगों ने थाने का घेराव कर जमकर ताण्डव मचाया।

जानकारी के अनुसार उदयुपर थाना क्षेत्र के खानीपुर गांव निवासी शिवकेश सिंह 30 थाना क्षेत्र के सोनार की बाग जोगापुर निवासी अपने साढू अजय सिंह के यहां गया था। मंगलवार को वह बाइक द्वारा अपनी साली आरती व उसके बेटे सुमित तथा बेटी आंचल को लेकर खरीददारी करने सांगीपुर बाजार आया था। शाम करीब चार बजे घर वापस लौटने के दौरान बाजार इलाके में ही अचानक सामने से आ रहे एक प्राइवेट बस की चपेट में बाइक आ गई। दुर्घटना में अजय सिंह का पुत्र पांच वर्षीय सुमित व बाइक चला रहे उसके मौसा शिवकेश सिंह, सुमित की मां आरती तथा एक वर्षीया बहन आंचल घायल हो गये। आसपास से जुटे लोगों द्वारा आनन फानन में सभी घायलों को सीएचसी सांगीपुर भेजवाया गया। जहां चिकित्सकों ने शिवकेश सिंह व मासूम सुमित को मृत घोषित कर दिया। जबकि घायल आरती व उसकी बेटी का सीएचसी में इलाज जारी बताया गया है।

इधर मौके से बस लेकर भाग रहे चालक को लोगों ने धर दबोचा और चालक तथा परिचालक की जमकर धुनाई करने के बाद दोनों को पुलिस के हवाले कर दिया। वहीं सूचना पाकर मौके पर पहुंची स्थानीय पुलिस भारी भीड़ व आक्रोश देखकर मासूम सुमित व उसके मौसा शिवकेश सिंह का शव लेकर जबरन जिला मुख्यालय चली गई।

इस बात की जानकारी होते ही लोगों का आक्रोश बढ़ चला। इसी बीच मौत की सूचना पर मृतकों के परिजन व ग्रामीण मौके पर पहुंच गये और पुलिस द्वारा शव लेकर चले जाने से लोग उग्र हो चले। पुलिस की कार्यप्रणाली से आक्रोशित सैकड़ों की संख्या में लोगों ने थाना पहुंचकर घेराव कर दिया और शव सौंपे जाने की मांग पर अड़ गये। सूत्रों की मानें तो इसी बीच थाने के एक दरोगा के द्वारा कही गई किसी बात पर लोग और भड़क उठे और दरोगा को पीट दिया। समाचार लिखे जाने तक शव सौंपने की मांग को लेकर लोगों द्वारा थाने का घेराव जारी है।

रिपोर्ट – चन्द्र शेखर तिवारी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY