बस्तर नगर पंचायत को ग्राम पंचायत बनाने की मांग

0
171

प्रतीकात्मक

बस्तर-छत्तीसगढ़ : हजारों की भीड़ में पहुंचे त्रस्त नगर पंचायत बस्तर के समस्त ग्रामीण बच्चों से लेकर बूढ़ों तक सभी ने अपनी त्रस्त जीवन यापन के बारे में शासन की असुविधाओं से तंग आकर हजारों की भीड़ में लंबी कतार की रैली निकालकर बस्तर sdm सुश्री लवीना पांडे को ज्ञापन सौंपने हेतु पहुंचे थे मगर sdm की गैर मौजूदगी में तहसील दार श्री भूपेंद्र गांव रे को ज्ञापन सौंपा गया त्रस्त ग्रामीणों ने मूलभूत सुविधाओं का लाभ ना मिलने का मुख्य कारण बताए बताते हुए नगरपंचायत अध्यक्ष व नगरपंचायत के सभी अधिकारियों के ऊपर नाराजगी जाहीर की.प्रत्यक्ष ग्रामीणो ने बताया बिजली पानी की व्यवस्था का नाम नही ,ग्राम पंचायत जैसे व्यवस्था नगर पंचायत को बना दिया इससे अच्छा तो ग्राम पंचायत थी जिसमे सभी लोग हर असुविधा को झेल रहे थे आज नगरपंचायत होने के कोई मूलभूत सुविधा उपलब्ध नहीं हो पा रही है ।कई घरों मे आज भी बिजली नहीं है कई वार्डों मे पानी की समस्या है जिससे आज भी मीलों चलकर पानी भरना पड़ता है।जिसकी शिकायत यहां के पार्षदों व अध्यक्ष श्री शंकर सिन्हा के कान मे जूं तक नही रेंगती ,और तो और ब्लाक मुख्यालय होने के बावजूद भी मुख्य कार्यपालन अधिकारी व जनपद पंचायत अध्यक्ष श्रीमती सकुंतला कश्यप की नजर भी एक छोटी सी बस्ती की ओर नही पड़ रही है।

मिटींग और सम्मेलन मे साक्षर सुन्दर बस्तर की नारे तो हर अधिकार मिटींग और सम्मेलन मे साक्षर बस्तर सुन्दर बस्तर की नारे तो हर अधिकारी लगाते हैं पर जमीनी स्तर में बस्तर की हाल बेहाल है ।अधिकारी तो AC कमरे मे पंखे के नीचे बैठकर कागजी कार्यवाही करने मे पीछे नही रहते पर वास्तव मे इसकी कार्यवाही बिल्कुल नही होती ।बस्तर के बच्चों की ललक को देख कर विश्व रिकार्ड बनाने की बातें होती है मगर वही बच्चे मजबूर होकर चिमनी की रोशनी मे पढ़ाई कर सुबह परीक्षा देने की स्थिति से जूझ रहे हैं।नाराज ग्रामीणों ने बस्तर चौक से रैली निकालकर पदाधिकारियों को जगाने के लिए हर विभाग के कार्यालय तक पैदल चलकर ज्ञापन सौंपा। ।

रिपोर्ट–हरदीप छाबडा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY