घोटाले में नामजद बैरिया ब्लाक की ग्राम पंचायत दयाछपरा के बीडीओ सस्पेंड

बलिया (ब्यूरो) जिला विकास अधिकारी शशिमौलि मिश्र ने लगभग 29 लाख के घोटाला में नामजद बैरिया ब्लाक की ग्राम पंचायत दयाछपरा के बीडीओ (ग्राम विकास अधिकारी) संजय सिंह को संस्पेंड कर दिया है। इस निलम्बन के साथ ही रसड़ा ब्लाक की ग्राम पंचायत मुंडेरा में हुए अन्त्येष्टि स्थल निर्माण में 13 लाख के घोटाला में नामजद दो सचिवों पर कार्रवाई की उम्मींद बलवती हो गयी है। यही नहीं, इस मामले में सम्बंधित ग्राम पंचायतों के प्रधानों की चिन्ता बढ़ती नजर आ रही है।

वर्ष 2013-14 में नमामि गंगे योजना के तहत बैरिया ब्लाक की ग्राम पंचायत दयाछपरा में 400 शौचालय का निर्माण होना था। इसके लिए विभाग ने धन भी आवंटित कर दिया। लेकिन सरकार की सोच को पलीता लगाते हुए शौचालय निर्माण के नाम पर सरकारी धन को लूटा लिया गया। इसकी शिकायत मिलने पर बतौर जांच अधिकारी तत्कालीन डीपीआरओ राकेश कुमार यादव ने स्थलीय निरीक्षण कर न सिर्फ 28 लाख 96 हजार की अनियमिता पायी, बल्कि वीडीओ संजय सिंह व प्रधान के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया। वहीं, रसड़ा ब्लाक की ग्राम पंचायत मुंडेरा में अन्त्येष्टि स्थल के नाम पर सरकारी धन के बंदरबाट की जांच भी तत्कालीन डीपीआरओ राकेश कुमार यादव ने की थी।

जांच में 13 लाख रुपये के हुए घोटाले की पुष्टि होने पर मुंडेरा के ग्राम विकास अधिकारी व ग्राम पंचायत अधिकारी तथा प्रधान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया। बावजूद इसके उक्त दागी सचिवों से विभाग काम लेता रहा। इसके चलते यह प्रश्न जिले के प्रभारी मंत्री व यूपी के उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के सामने पहुंचा, जिस पर उन्होंने संज्ञान लेने की बात कहीं थी। सोमवार को जिला विकास अधिकारी ने दयाछपरा के वीडीओ संजय सिंह को सस्पेंड कर दिया, जबकि मुंडेरा के दोनों सचिवों से अपना पक्ष रखने के लिए आदेशित किया गया है।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY