बेपटरी विधुत व्यवस्था से परेशान उपभोक्ताओं ने किया विधुत उपकेन्द्र का घेराव

0
57


खीरों/रायबरेली (ब्यूरो)- विकासक्षेत्र खीरों के अंतर्गत स्थित विधुत उपकेन्द्र खीरों और सेमरी के उपभोक्ताओं को पिछले लगभग डेढ माह से लगातार लो वोल्टेज, अघोषित विधुत कटौती और 33 के वी ए में फाल्ट आने से काफी समस्याओं का सामना करना पड रहा है । जहां एक ओर किसानों की धान की फसल बिना पानी के सूख रही है वहीं दूसरी ओर क्षेत्र की छोटे-बडे उधोग जो कि विधुत सप्लाई पर निर्भर हैं, लगभग बन्द हो गये हैं ।

क्षेत्र के उपभोक्ताओं द्वारा कई बार शिकायत करने के बाद और धरना प्रदर्शन करने के बाद भी विधुत विभाग के कर्मचारियों के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही है । हर बार शिकायत करने पर उपभोक्ताओं को झूठा आश्वासन देकर टरका दिया जाता है या फिर सम्बन्धित आलाधिकारी से सम्पर्क ही नहीं हो पाता है । बेलगाम विद्युत व्यवस्था और विभागीय अधिकारियों की लापरवाही एवं खाऊ कमाऊ नीति के चलते खीरों ब्लॉक के सभी उपभोक्ताओं में व्यापक आक्रोश है ।

दूसरी तरफ विद्युत आपूर्ति के बेपटरी होने का फायदा उठाते हुये चोर क्षेत्र में चोरी जैसी आपराधिक घटनाओं को आए दिन अंजाम दे रहे हैं । विधुत उपकेन्द्र खीरों में उपभोक्ताओं ने किया धरना प्रदर्शन विकासक्षेत्र के गाँव पाहो में लगभग बीते दो माह से ट्रांसफार्मर जला हुआ है । जिसके न बदले जाने के विरोध में पूर्व में एक अगस्त को गांव के उपभोक्ताओं द्वारा विधुत उपकेन्द्र खीरों में धरना प्रदर्शन और आन्दोलन किया गया था, लेकिन विभागीय अधिकारियों की लापरवाही के कारण आजतक ट्रांसफार्मर नहीं बदला गया । जिससे नाराज उपभोक्ताओं का गुस्सा एक बार फिर फूट पड़ा और उपभोक्ताओं
ने बुधवार को बड़ी संख्या में उपकेन्द्र खीरों का घेराव कर धरना प्रदर्शन करते हुये नारेबाजी की ।

आन्दोलन कर रहे पाहो निवासी शिवम सिंह, शुभम जायसवाल, नीरज सिंह, अभिषेक राठौर, मुन्ना सिंह, रणविजय सिंह, जितेन्द्र सिंह, गोलू सिंह सहित सभी आक्रोशित उपभोक्ताओं ने बताया कि बीते 22 जून से हमारे गाँव का ट्रांसफार्मर जला पड़ा हुआ है । कई बार शिकायत करने के बाद भी विभागीय अधिकारियों द्वारा समस्या का समाधान नहीं किया गया ।

बीते दो माह से ग्रामीण अंधेरे में रह रहे हैं, जबकि प्रदेश सरकार द्वारा ट्रांसफार्मर खराब होने के चौबीस घण्टे के अन्दर बदलने का निर्देश है । जले ट्रांसफार्मर की समस्या के कारण हम लोगों ने बीती एक अगस्त को खीरों उप केन्द्र का घेराव कर धरना प्रदर्शन किया था । तब उपकेन्द्र के अवर अभियंता रामनाथ ने सभी उपभोक्ताओं को आश्वासन दिया था कि एक सप्ताह के अन्दर ट्रांसफार्मर बदल कर आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी । लेकिन आज तक समस्या का निदान नहीं हुआ है । विधुत उपकेन्द्र सेमरी के उपभोक्ताओं द्वारा विभाग के विरूद्ध धरना प्रदर्शन और नारेबाजी  विकासक्षेत्र खीरों के अन्तर्गत स्थित
विद्युत उपकेन्द्र सेमरी की विद्युत व्यवस्था भी बेपटरी हो चुकी है । जिससे नाराज होकर सेमरी क्षेत्र के एक सैकड़ा से अधिक उपभोक्ताओं ने मंगलवार को विद्युत उपकेन्द्र सेमरी का घेराव कर धरना प्रदर्शन किया ।

इस दौरान आंदोलनकारियों ने बिजली विभाग मुर्दाबाद और जे ई, एक्स ई एन मुर्दाबाद के नारे लगाए । आक्रोशित उपभोकताओं का गुस्सा देखकर विभागीय अधिकारियों के हाथ पाँव फूल गए और मामले को तूल पकड़ता देखकर एस डी ओ सेमरी ने खीरों पुलिस को सूचना दी । मौके पर पहुंचे चौकी प्रभारी सेमरी प्रशान्त सिंह ने उपभोक्ताओं को समझा-बुझाकर शान्त कराया । इसके बाद अधिकारियों और कर्मचारियों ने राहत की सांस ली ।

विद्युत उपकेन्द्र सेमरी का घेराव कर आंदोलन कर रहे सत्यम, टीशू, रामजी पाण्डेय, नीरज शुक्ला, राजेश, मोहित सिंह, राहुल, बजरंग सहित सभी उपभोक्ताओं ने बताया कि विगत लगभग डेढ़ माह से समूचे क्षेत्र में विद्युत व्यवस्था चौपट हो चुकी है । विभागीय अधिकारी और कर्मचारी इस समस्या का निदान ढूँढने में कोई रुचि नहीं ले रहे हैं । जिससे आए दिन 33 के वी ए की लाइन मे फाल्ट आने से आपूर्ति बाधित रहती है । जो आपूर्ति मिल भी रही है इतना लो वोल्टेज आता है कि ट्यूबवेल की मोटरें तक नहीं चल पा रही है । जिससे किसानों की धान की फसलें सूख रही हैं । सरकार का निर्देश है कि
ग्रामीण अंचलों में 18 घण्टे आपूर्ति दी जाये । लेकिन विभागीय अधिकारियों की मनमानी के आगे शासन का आदेश भी बौना साबित हो रहा है । ग्रामीणों अंचलों में मात्र छह से सात घण्टे ही आपूर्ति मिलती है । उसमें भी बिजली की आँख मिचौली का खेल भी चला करता है । लाइनों की मरम्मत के नाम पर विभाग द्वारा आवंटित धन कागजों पर खर्च दिखा कर जेबें गरम की जा रही हैं । वर्षों से लाइनों की ट्री कटिंग और पेट्रोलिंग न होंने के कारण लाइनों की स्थिति दयनीय हो चुकी है

रिपोर्ट- आशीष शुक्ला

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY