जनपद उन्नाव के कुम्भी में रहने वाले अनुराग ने की क्रांतिकारी खोज

0
9845

anurag scientist
बीघापुर-उन्नाव : प्रतिभा कब कहां कैसे निखर कर सामने आ जाए किसी को पता नहीं।कुछ ऐसा ही उदाहरण देखने को मिला तहसील क्षेत्र के एक छोटे से गांव कुम्भी में। इस गांव के रहने वाले बीएससी के छात्र अनुराग सिंह ने एक ऐसी डिवाइस बना डाली जिससे ऊर्जा संरक्षण किया जा सकता है। सड़क के किनारे लगी स्ट्रीट लाइटें जो हमेशा जलती रहती हैं, को स्वतः बन्द करने के लिए एक तंत्र को विकसित किया है। इस तंत्र की खासियत यह है कि जैसे ही कोई वाहन सड़क पर चढ़ेगा वैसे ही जीपीएस सेंसर सिस्टम से लैस यह डिवाइस स्ट्रीट लाइटों को जला देगी, और वाहन के गुजरते ही लाइटे स्वयं ही बंद हो जाएंगी।

ऐसा ही एक सिस्टम अनुराग से रेलवे के लिए भी विकसित किया है, जिससे यदि दो कि.मी. दूर कोई छेड़छाड़ रेलवे लाइन पर हो रही है तो उसकी भी जानकारी चालक को हो जाएंगी, और साथ ही मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर गेट भी स्वतः ही बन्द हो जाएंगे। यदि सरकार इस पर ध्यान दे तो इस छात्र के इस क्रांतिकारी खोज से सरकार को बड़ा लाभ हो सकता है । आनुराग का कहना है कि उसकी इस खोज में उसके त्रिवेणी काशी महाविद्यालय के भौतिक विज्ञान के शिक्षक अरुण प्रताप सिंह का बहुत बड़ा योगदान है। इसके पहले अनुराग 400 ग्राम वजन का ड्रोन बना कर उसमें तिरंगा बांध कर उड़ा चुका है।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY