वरिष्ठ साहित्यकार के प्रथम काव्य संग्रह का हुआ लोकार्पण

0
141

book launch
रोसड़ा-समस्तीपुर : वरिष्ठ साहित्यकार डॉ बुद्धिनाथ मिश्र के प्रथम मैथिली काव्य संग्रह “क्यो नहि दै अछि आगि” का लोकार्पण उनकी जन्मभूमि बिहार स्थित रोसड़ा अनुमंडल के देवधा ग्राम के कन्या प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में संपन्न हुआ, मुख्य अतिथि बीएन मंडल विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति एवं बिहार सवर्ण आयोग के अध्यक्ष डॉ रिपुसूदन श्रीवास्तव, विशिष्ट अतिथि मुजफ्फरपुर जिले के उपसमाहर्ता डॉ रंगनाथ दिवाकर साहित्य अकादमी सलाहकार समिति सदस्य डॉ नरेश विकल, वरिष्ठ साहित्यकार चांद मुसाफिर एवं पत्रकार योगेंद्र पोद्दार थे |

अध्यक्षता पूर्व जिला पार्षद गंगाधर झा तथा मंच संचालन विजयव्रत कंठ ने किया, वरिष्ठ साहित्यकार कैलाश किंकर के अंगिका काव्य संग्रह “जाने जौ कि जाने जाता” का लोकार्पण भी हुआ, इस अवसर पर भव्य कवि सम्मेलन में डॉ रामविलास राय अवधेश्वर सिंह, रमाकांत रमा, सीता राम, शेरपुरी, अनिल झा, राहुल झा, रामनरेश मिश्र, विजयव्रत कंठ, डॉ नरेश विकल, डॉ बुद्धिनाथ मिश्र एवं डॉ रिपुसुदन श्रीवास्तव सहित अनेक जाने माने कवियों ने अपनी रचनाओं से श्रोताओं की वाहवाही लूटी |

स्वागत प्रधानाचार्य शिवजी मिश्र तथा धन्यवाद ज्ञापन मुखिया अशोक निषाद ने किया. आकाशवाणी के कलाकार रामबालक निराला, केशीशरण एवं गणेश दास ने भगवती वंदना नचारी तथा होली गीत से लोगों को झुमाया. शैलरमा फांउडेशन की ओर से चर्चित उद्यमी राजेश कंठ ने अतिथियों दर्जनों समाजसेवियों तथा छात्र-छात्राओं को सम्मान प्रदान किया, जिसकी लोगों ने सराहना कीं |

रिपोर्ट – रंजीत कुमार

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY