खुद को शिवपाल यादव का करीबी बताकर जिले में जमकर लूट-घसोट

0
144


उन्नाव : उन्नाव मे पिछले 1 वर्ष से तैनात बेसिक शिक्षा अधिकारी खुद को सपा के बड़े नेता शिवपाल यादव का करीबी बताकर जिले जमकर लूट-घसोट करते चले आ रहे हैं, लेकिन अब तो इन्तहाँ हो गयी जब आचार संहिता लगे होने के बीच मे ही दो अध्यापकों से एक-एक लाख रूपया लेकर एक ही स्कूल मे एक ही प्रधानाध्यापक के पद पर तैनाती दे दी जब दोनो अध्यापकों के बीच रस्साकसी शुरू हुई तो मामला मीडिया के कानों तक पहुँचा और कागजों पर दर्ज ज्वानिगं से बी.एस.ए. की काली करतूत सामने आ गयी |

उन्नाव के प्रथमिक विद्यालय माखी 2 मे बी.एस.ए दीवान सिंह यादव की काली करतूत उस समय सामने आयी जब एक ही पद पर दो अध्यापकों की तैनाती करने के बाद दोनो मे झगडा सुरू हुआ प्रधनाध्यापक के पद के लिए दोनो ही अपनी-अपनी ताकतों को झोंकने लगे मामला इतना बड गया कि पूर्व शिक्षा मन्त्री अहमद हसन तक जा पहुँचा लेकिन घूसखोर बी.एस.ए पर शिक्षा मन्त्री और डी.एम की फटकार का भी कोई असर नही हुआ और दोनो एक ही पद के लिए अपनी-अपनी हाजिरी दर्ज करा रहे है वहीं जब स्कूल मे मौजूद अध्यापिका बुसरा खातून से बात की गयी तो बी.एस.ए के दबाव के बावजूद भी उन्होने ने माना की विभाग से त्रुटि हुई है | वहीं अपनी काली करतूतों से पहले ही डी.एम की नजरों पर चढे बी.एस.ए की इस घूसखोरी का जब पता चला तो उन्होने इसकी जाँच उच्चाधिकारियों से कराने के आदेश दे दिए और कडी कार्यवाई का अश्वासन भी दिया है अब देखना यह होगा कि पहले की तरह ही यह जाँच भी कही लिखापढी के चक्रव्युह मे फंस कर न रह जाये|

मामला अभी संज्ञान में आया है यदि किसी भी नियम का उल्लंघन हुआ होगा तो इसकी उच्च स्तरीय जाँच सीबीओ के लेवल से कराकर जो भी अधिकारी दोषी पाए जायेंगे उन पर कार्यवाही होगी |यदि किसी की गलत नियुक्ति या तैनाती कही पर भी हुई है तो उसको तुरंत ठीक कराया जायेगा |

रिपोर्ट – धर्मेन्द्र शर्मा

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here