RSS का नाम लेकर कर रहे शिक्षा का व्यापार, पूछने पर पत्रकारों को मरवाकर यमुना में फेंकने की दी धमकी

0
849


गौतमबुद्धनगर (ब्यूरो) : जिले में प्रशासन की आँखों में धूल झोंककर वर्षों से शिक्षा माफ़िया सभी नियमों को ताख पर रख अवैध रूप से शिक्षा का कारोबार कर रहे हैं । शिक्षा माफ़ियाओं का ये मकड़जाल पूरी तरह से सिस्टम को जकड़े हुए है । आजकल पूरे सूबे में ही कुछ लोग अपनी पहुँच के बल पर अवैध विद्यालयों चला रहे हैं ।

जानकारी करने पर पता चला कि पहले तो यहाँ कभी जाँच होती ही नहीं है, लेकिन जब कभी कुछ अधिकारियों की सक्रियता के चलते ऐसी जाँचे होती भी हैं, तो ऐसे विद्यालयों के मालिक अपनी पहुँच का लाभ उठाकर ख़ुद को और अपने विद्यालय को बचा लेते हैं, हैरत की बात यह कि ऐसे विद्यालयों का संचालन करने वालों ने ख़ुद को संरक्षण प्रदान करने वाली एक संस्था भी बना रखी है और चूँकि देश और प्रदेश में बीजेपी की सरकार है तो ये लोग खुद को आर. एस. एस. और बीजेपी से भी जुड़ा हुआ बताते है और धौंस ज़माने की कोशिश करते हैं, ऐसे में विश्व का सबसे बड़ा सामाजिक संगठन होने के नाते आर. एस. एस. की यह नैतिक जिम्मेदारी है कि वह ऐसे लोगों के खिलाफ कार्यवाही करें और मुखर होकर इन शिक्षा माफियाओं का विरोध करें | इस विषय पर आवाज उठाने वाले सामाजिक कार्यकर्ताओं और पत्रकारों को धमकाने और उनपर दबाव बनाने का काम करते हैं ।

अखंड भारत न्यूज़ की टीम ने जब आज ऐसे ही एक स्कूल की पड़ताल की तो पता चला, कि इस तरह के स्कूल ना सिर्फ़ बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे हैं बल्कि उनकी जान को भी जोखिम में डाल रहे हैं । नोएडा के नगली वजीदपुर स्थित मॉडल नैशनल पब्लिक स्कूल में सरकारी नियमों को ताख पर रख कर धड़ल्ले से बच्चों और उनके अभिभावकों को किताबें और ड्रेस बेंचने में जुटा हुआ है, इतना ही नहीं स्कूल ने बच्चों के जीवन से खिलवाड़ करते हुए उन्हें बेसमेंट में पढ़ाया जा रहा है, स्कूल की मान्यता मात्र 6 से 8 तक होने के बावजूद स्कूल में धड़ल्ले से नर्सरी से 12वीं तक की कक्षाएं चल रही हैं और इन बच्चों को शिक्षा देने वाले शिक्षक भी सरकारी मानकों के तहत नहीं हैं, और स्कूल प्रशासन अपने इस अवैध कार्य और व्यवसाय को सेवा और शिक्षा के काम का नाम दे रहे हैं |

आज जब हमारी टीम ने इस सम्बन्ध में स्कूल में पढ़ रहे छात्रों और टीचर से मामले को जानने की कोशिश की तो स्कूल संचालक अभद्रता और मारपीट पर उतर आये, इतना ही नहीं कुछ ही समय में वहां विद्यालय प्रशासन के तथाकथित हितैशियों या यूँ कहें कि शिक्षा माफियाओं का एक समूह इकट्ठा हो गया और पत्रकारों को जान से मारने की धमकी देने लगा, पत्रकारों को जिन्दा यमुना में फेंकवाने की धमकी भी दी गयी ये लोग यहीं नहीं रुके पत्रकारों पर खबर न चलने का दबाव बनाने के लिए यह भी कहा कि यदि हमारे खिलाफ खबर चलायी तो रिश्वत मांगने का आरोप लगा कर जेल भिजवा देंगे|

अब एक तरफ जहाँ देश और प्रदेश के मुखिया शिक्षा के उत्थान और पत्रकारों की सुरक्षा की बात कर रहे हैं वहीं दूसरी ओर ऐसे शिक्षा माफिया इन दावों और वादों का सरेआम मजाक उड़ा रहे हैं | अब ऐसे डर और भय के माहौल में एक पत्रकार अपनी कलम चलाये भी तो कैसे ? जहाँ मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के फरमान के बावजूद इस तरह के सफ़ेद कालर गुंडे अपनी मनमानी करने को आज़ाद हैं |

रिपोर्ट – अजय सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here