जनता के पैसों से अपनी पार्टी का प्रचार कर रही केजरीवाल सरकार : CAG रिपोर्ट

0
721

delhi2
पारम्परिक राजनीति से हटकर, जनता को भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने और पार्टी राजनीति से ऊपर उठकर काम करने का वादा करके अस्तित्व mee आई आम आदमी पार्टी CAG की रिपोर्ट आने के बाद पूरी तरह बेनकाब हो गयी है, CAG में अपनी रिपोर्ट्स में खुलासा किया है कि किस तरह आम आदमी पार्टी ने जनता के पैसों का उपयोग अपनी पार्टी के प्रचार और दूसरी पार्टी की आलोचना में किया है |

CAG रिपोर्ट में सामने आया कि 2013-14 में दिल्ली सरकार ने प्रचार के लिए 25.25 करोड़ रूपये खर्च किये, 14-15 में विज्ञापन पर होने वाले खर्चा बढ़कर 81.23 करोड़ हो गया, और वर्तमान वित्तीय वर्ष 15-16 में ये खर्चा बढ़कर 114.21 करोड़ होने की उम्मीद है |

CAG रिपोर्ट के अनुसार वित्तीय वर्ष 15-16 में होने वाला विज्ञापन का खर्च 12.75 करोड़ अनुमानित था पर विज्ञापनों पर 114.21 करोड़ से भी अधिक रुपये खर्च किया गए |

एक विज्ञापन पर खर्च किये गए 33.40 करोड़ रूपये का 85प्रतिशत हिस्सा आम आदमी पार्टी ने अपनी पार्टी के प्रचार के लिए दिल्ली के बाहर अन्य राज्यों में विज्ञापन करवाकर खर्च किया |

CAG ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा कि दिल्ली सरकार ने सरकारी विज्ञापनों पर अपनी पार्टी का निशान व नाम देकर माननीय सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले की अवहेलना की है जिसमें कोर्ट ने सरकारी विज्ञापनों पर राजनीतिक पार्टी के चिन्ह या नाम दर्शाने पर रोक लगायी थी |

delhi1

CAG ने यह भी आरोप लगाया कि आप पार्टी ने जनता के पैसों से महिला सुरक्षा को लेकर किये गए विज्ञापनों में केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस को बदनाम करने पर अधिक ध्यान दिया नाकि सरकार योजनाओं को लोगों तक पहुँचाने पर |

CAG नने अपनी रिपोर्ट में साफ़ किया है कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार जनता के पैसों को मनमाने ढंग से अपनी पार्टी के प्रचार के लिए इस्तेमाल कर रही है और माननीय सुप्रीम कोर्ट के नियमों की पूरी तरह से अनदेखी कर रही है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY