नहीं हो सकी सरकारी गेहूँ की ख़रीद

0
69

जालौन (ब्यूरो)- सरकारी गेंहू क्रय केंद्र की नगर में प्रथम दिन शुरूआत नहीं हो सकी। इसके कारण किसान पूरे दिन परेशान रहे। मंडी परिसर में 6 गेंहू गेंहू क्रय केंद्र बनाए गए हैं। पूरे तहसील क्षेत्र में कुल 9 क्रय केंद्रों पर किसानों का गेंहू खरीदा जाएगा। तो वहीं, पहले दिन एसडीएम ने मंडी जाकर गेंहू क्रय केंद्रों का जायजा लिया। जिसमें पता चला कि स्टेंसिल न होने के कारण पहले दिन गेंहू की खरीद नहीं की जा सकी है।

एक अप्रैल से 30 जून तक चलने वाली सरकारी गेंहू क्रय केंद्रों पर किसानों की मेहनत से पैदा किया गया गेंहू खरीदे जाने की सरकार की मंशा पर अधिकारी पानी फेरते नजर आ रहे हैं। जबकि किसानों द्वारा मेहनत करके जो फसल पैदा की गई उसका उचित मूल्य देने के लिए सरकार प्रयासरत है। लेकिन उसका लाभ किसानों तक नहीं पहुंच पाता। शासन द्वारा एक अप्रैल से सभी सरकारी गेंहू क्रय केंद्रों पर गेंहू खरीद प्रारंभ किए जाने के सख्त निर्देश दिए गए थे। मंडी परिसर में गेंहू क्रय केंद्र तो खुल गए, लेकिन स्टेशनरी, कोड नंबर व स्टेंसिल के अभाव में पहले दिन किसानों से उनका गेंहू नहीं खरीदा जा सका।

निरीक्षण के लिए पहुचे एसडीएम शीतला प्रसाद यादव ने क्रय केंद्र प्रभारियों को अतिशीघ्र व्यवस्थाऐं दुरूस्त कर गेंहू क्रय करने के निर्देश दिए। तो वहीं, मंडी सचिव ऋषभ जैन ने जानकारी देते हुए बताया कि इस बार मंडी परिसर में 6 गेंहू क्रय केंद्र खोले जाने हैं। जो आरएफसी, पीसीएफ, यूपी स्टेट एग्रो, राज्य कर्मचारी कल्याण निगम, यूपीएसएस, एफसीआई है। पूरे तहसील क्षेत्र में 9 गेंहू क्रय केंद्र खोले जाने हैं। क्षेत्रीय किसान उक्त केंद्रों पर अपना-अपना गेंहू विक्रय कर उसका शासन द्वारा निर्धारित मूल्य प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा सभी क्रय केंद्र प्रभारियों को निर्देश दिए जा चुके हैं कि शीघ्र ही एक, दो दिन के अंदर केंद्र खोलकर गेंहू की खरीद प्रारंभ कर दें।

उधर, गेंहू क्रय केंद्र पर गेंहू बेचने आए किसान मंगली प्रसाद निवासी सिकरी राजा ने बताया कि वह बड़ी उम्मीद के साथ गेंहू क्रय केंद्र पर अपना माल बेचने आया था। लेकिन केंद्र प्रभारी ने बताया कि कुछ कारणों के चलते आज माल नहीं खरीदा जा रहा है। अब उसे मजबूरन वापस लौटना पड़ रहा है।

रिपोर्टर – अनुराग श्रीवास्तव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY