पुलिस पिटाई से मौत के मामले में हुई सिक्ख समाज एकता की पहली जीत, दर्ज हुआ मामला

0
270

बलौदाबाजार : ताजा जानकारी के अनुसार मात्र ड्राइविंग लाइसैंस न रहने पर बलौदा बाजार थाने में पुलिस ने थाने में जसवंत सिंह सलूजा के दोनों हाथों को हथकड़ी से ऊपर बांधकर इतनी बेदर्दी से पिटा था क़ि जसवंत की थाने में ही मौत हो गई थी ।सिक्ख समाज इस घटना से आक्रोशित था और लगातार प्रदर्शन कर रहा था फलस्वरूप एक ऐसा दबाव बना कि आज अभी अभी सुचना मिली कि बलौदा बाजार टी आई धीरज मरकाम के खिलाफ इरादतन हत्या के मामले के तहत भादवि के अनुसार धारा 302 का मामला दर्ज हुआ ।

इस लोमहर्षक घटना से न केवल सिक्ख समाज बल्कि हर संवेदनशील व्यक्ति व्यथित था और अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा था हर व्यक्ति के हृदय में पुलिस बर्बरता ने एक अव्यक्त आक्रोश उत्पन्न कर दिया था ।सिक्ख समाज ने राजधानी रायपुर में भी 15अप्रैल को बड़ी संख्या में एकत्रित होकर अपनी एकजुटता का परिचय दिया था ।19 अप्रैल को सिक्ख समाज ने जसवंत सिंह सलूजा की पगड़ी रस्म और अंतिम अरदास में प्रदेश के कोने कोने से पहुंचकर मौन किन्तु प्रखर विरोध प्रगट किया था शांति मार्च करके सिक्ख समाज ने एक स्वर में दोषी पुलिस अधिकारी टी आई धीरज मरकाम पर इरादतन हत्या के आरोप के साथ धरा 302 लगाकर गिरफ्तारी की मांग की थी और कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा था ।छग जनता कांग्रेस के मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने भी अपना समर्थन पगड़ी रस्म में बलौदा बाजार पहुंचकर दी थी और अपने उदबोधन में रुंधे गले और बहती आंसुओं के बीच दोषियों को सजा देने की मांग की थी अन्य समाज के प्रतिनिधि भी समर्थन देने पंहुचे थे ।

रिपोर्ट-हरदीप छाबड़ा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here