बाबरी विवाद- अडवाणी-जोशी-उमा को झटका लेकिन मोदी के लिए बड़ा फायदेमंद, लालू ने बताया शाजिश

0
125


नई दिल्ली-  बाबरी विध्वंस मामले में भले ही सुप्रीमकोर्ट ने देश के और भाजपा के कुछ बड़े दिग्गज नेताओं को अपराधिक शाजिश रचने का दोषी करार देते हुए उनके ऊपर केस चलाने की बात कही हो लेकिन इससे भाजपा को कोई बड़ा नुकशान नहीं हुआ है बल्कि ऐसा लग रहा है कि मोदी के नेत्रत्व वाली भारतीय जनता पार्टी को इससे बड़े फायदे हो सकते है |

दरअसल आपको बता दें कि सुप्रीमकोर्ट ने बुधवार को अपने आदेश में कहा है कि बाबरी विध्वंस मामले में भारतीय जनता पार्टी के कुछ दिग्गज नेताओं के ऊपर आपराधिक शाजिश रचने और कार सेवकों को उकसाकर उस मश्जिद को ढहाने का काम किया गया है | इसलिए इन सभी नेताओं के ऊपर कोर्ट में केस चलाया जायेगा | साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा है कि इस पूरी सुनवाई को 2 सालों के भीतर समाप्त कर लिया जाएगा | अब बात यदि दो साल कि हुई है तो यानी कि 2017 से 2019 तक |

क्या है बीजेपी को फायदा-
इस पूरे प्रकरण में सर्वाधिक फायदा हमेशा ही भारतीय जनता पार्टी को हुआ है | भारतीय जनता पार्टी के पास कभी मात्र 2 सीटें हुआ करती थी आज वही भारतीय जनता पार्टी देश की सबसे बड़ी राजनैतिक पार्टी है | ऐसे डूबते हुए कमल के लिए पतवार का काम राममंदिर ने ही किया है | अब इसी राममंदिर के लिए यदि इस उम्र में लाल कृष्ण अडवाणी सरीखे दिग्गज जेल जाते है तो जाहिर कि मोदी उसे कैश अवश्य करवायेगे |

कांग्रेस भी दूरी बनाकर रहेगी –
बाबरी विध्वंस और राम मंदिर मुद्दे से हमेशा से ही कांग्रेस अपने आपको थोडा नजदीक तो थोडा दूर ही रखा है | कांग्रेस इस मामले में कमेन्ट करने में बहुत ही अधिक सतर्कता बरत रही है | ऐसा इसीलिए कि कांग्रेस इस समय अपने सबसे बुरे दौर में चली गयी है | ऐसे में इस देश की बहुसंख्यक आबादी के आस्था के सबसे बड़े केंद्र पर हमलावर होना कांग्रेस के लिए बड़ी मुश्किल वाला हो सकता है | ऐसे में कॉग्रेस बीजेपी का ज्यादा विरोध करने की हिम्मत कभी नहीं जुटाएगी |

अडवाणी का नाम हुआ कमजोर-
उधर ज्ञात हो कि जुलाई में देश के नए राष्ट्रपति का चुनाव होना है | इस चुनाव के लिए पहले से ही मुरलीमनोहर जोशी और एल के अडवाणी का नाम सबसे आगे चल रहा है | लेकीन अब सुप्रीमकोर्ट के इस आदेश के बाद अडवाणी जी का और मुरली मनोहर जोशी का नाम तो अपने आप ही किनारे पहुँच चुका है | अब इन नामों पर अधिक चर्चा हो पाना संभव नहीं है |

लालू ने बताया सोची समझी शाजिश-
उधर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने इस फैसले के बाद इसे एक शाजिश करार दिया है | उन्होंने कहा कि मोदी ने बड़ा ही तगड़ा वार किया है, जिससे लाल कृष्ण अडवाणी और मुरलीमनोहर जोशी एक ही झटके में किनारे हो गए है | उन्होंने कहा है कि यह एक सोची-समझी शाजिश है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here