केंद्रीय कोल सचिव एवं राज्य सचिव ने झरिया के विस्थापितों का जाना दर्द

0
82

धनबाद(ब्यूरो)- भूमिगत आग के ऊपर बसी झरिया को खाली कराने लिए प्रशासनिक तैयारी तेज हो गई है। कोयला सचिव तथा राज्य की मुख्य सचिव शुक्रवार को झरिया पुनर्वास की समीक्षा की। कोयला भवन में बैठक से पहले दोनों अधिकारी प्रशासन तथा बीसीसीएल के अधिकारियों के साथ बेलगढ़िया गए। बेलगढ़िया में झरिया के लोंगो को बसाया जा रहा है। टीम के साथ मुख्यमंत्री के सचिव सुनील वर्णवाल भी थे।

जिला प्रशासन से मिली जानकारी के मुताबिक बैठक में झरिया के लोगों के विस्थापन एवं पुनर्वास, आरएसपी कॉलेज की शिफ्टिंग तथा धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन के बंद करने के बाद की स्थिति की समीक्षा की गई। बीसीसीएल तथा जरेडा के अधिकारियों को तमाम मामले की अद्यतन जानकारी के साथ बैठक में आए थे।
वीडियो कांफ्रेंसिंग से ली जानकारी।।

कोयला सचिव सुशील कुमार तथा मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने गुरुवार को रांची से वीडियो कांफ्रेंसिंग से झरिया पुनर्वास की जानकारी ली थी। पुनर्वास में आ रही परेशानियों के बारे में पूछा। सचिव को बताया गया कि जमीन की कमी के कारण पुनर्वास प्रभावित हो रहा है। इधर बीसीसीएल की ओर से बताया गया कि लोगों के पुनर्वास की व्यवस्था नहीं होने के कारण कई नए कोल प्रोजेक्ट की शुरुआत नहीं हो पा रही है।

दोनों अधिकारियों ने अग्नि एवं भू धसान प्रभावित क्षेत्रों का लिया जायजा
किसी को भी मरने के लिए नहीं छोड़ सकती सरकार: सचिव

कोल सचिव सुशील कुमार और झारखंड की मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने शुक्रवार को अग्नि प्रभावित क्षेत्र घनुडीह और लोदना एरिया के गोकुल पार्क का दौरा किया। कोल सचिव ने कहा कि लोग विस्थापन में सहयोग करें। यहां आग फैलने और भूधंसान का खतरा है। प्रभावित क्षेत्र से लोगों को हटना ही होगा। आवास बनकर तैयार हैं। लोगों के स्थान न छोड़ने के सवाल पर कहा कि सरकार किसी को जमींदोज होने के लिए यहां नहीं छोड़ेगी।

नए आवासों में ही लोगों को शिफ्ट किया जाएगा। आरएसपी कालेज पर कहा कि विचार कर बताएंगे। वहीं, सीएस राजबाला वर्मा ने स्पष्ट कहा कि आरएसपी स्कूल और कालेज हर हाल में हटेगा। झरिया का जो इलाका खतरनाक है, उसे खाली कराया जाएगा। आवासों की कमी नहीं है। लोगों को अब हटने के लिए मन बना लेना होगा।
मौके पर डीसी, एसएसपी, सिटी एसपी, बीसीसीएल के प्रभारी सीएमडी गोपाल सिंह समेत अन्य अधिकारी थे।

रिपोर्ट-गणेश कुमार 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here