चकबंदी अधिकारियों ने गाटा संख्या में फेरबदल कर किया अवैध कब्जा

0
166

WhatsApp Image 2017-01-15 at 8.01.15 PM
चकलवंशी-उन्नाव।उत्तर प्रदेश के तहसील हसनगंज की ग्राम पंचायत मियाँगंज की खतौनी व नक्शे में सरकारी तालाब दर्ज होने के बावजूद चकबन्दी बिभाग एवं तहसील प्रशासन ने पैसे के बल पर गाटा संख्या में किया फेरबदल। इस संबंध में ग्रामीणों के द्वारा चकबन्दी अधिकारियों व उपजिलाधिकारी हसनगंज को लिखित शिकायत की गयी।

तहसील हसनगंज क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत मियांगंज में सरकारी तालाब दर्ज होने के बाद भी तहसील व चकबंदी अधिकारियों द्वारा गाटा संख्या में फेरबदल कर दिया गया था। लगभग वर्ष 2002 में चकबंदी हुई थी जो पिछली चकबंदी में ग्राम चकबंदी से बाहर रहे। चकबंदी लेखपाल व तहसील के लेखपाल से मिलकर व चकबंदी अधिकारी से सांठ-गांठ करके बेशकीमती सरकारी तालाब की भूमि में गाटा नंबर गलत दर्ज करके करके बेशकीमती सरकारी तालाब की भूमि पर अवैध कब्जा करवाया गया। उसके बाद तालाब की भूमि पर अवैध निर्माण करवाने का प्रयास किया गया। उसके बाद ग्रामीणों ने सभी दस्तावेजों के साथ उपजिलाधिकारी को लिखित शिकायत की थी। फिर सभी बिंदुओं के साक्ष्य में पुराना गाटा संख्या की फोटो कापी साथ में संलग्न देखते हुये उपजिलाधिकारी महोदय ने थानाध्यक्ष आसीवन को निर्माण कार्य रुकवाने का आदेश दिया था। उसके बावजूद आज तक कोईभी कार्रवाई नहीं हुईहै। जबकि यह तालाब बांगरमऊ लखनऊ मार्ग के किनारे स्थित है।जो बहुत ही कीमती है। ऐसी बेशकीमती जमीन पर भूमाफियाओं के द्वारा कब्जा कर लिया गया है।

रिपोर्ट – जितेन्द्र गौड़

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY