पासपोर्ट बनवाने के नियमों में बदलाव, अब नहीं देना होगा कानूनी शपथ पत्र

0
129


देहरादून ब्यूरो : सौतेले पिता अथवा माता के साथ रहने वाले युवाओं को पासपोर्ट बनाने की प्रक्रिया को आसान कर दिया गया है। इन्हें पासपोर्ट बनाने के लिए जैविक पिता या माता का विवरण देने में छूट दी गई है। ऐसे आवदेक सौतेले पिता अथवा माता को संरक्षक बता कर पासपोर्ट हासिल कर सकते हैं। इस बाबत केंद्रीय विदेश मंत्रालय ने सभी पासपोर्ट कार्यालयों को नए आदेश जारी किए है।

दून के क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय में यह सुविधा 7 जून से आरंभ कर दी गई है। जैविक संरक्षक की आवश्यक शर्त को हटाकर आवेदन करने के लिए नियमों में परिवर्तन किया गया है। अब नए नियम के आने से पासपोर्ट आवेदकों की संख्या में इजाफा होने की उम्मीद है।
पहले देना होता था कानूनी दस्तावेज ऐसे युवा जो अपने सौतेले पिता अथवा माता के संरक्षक में पल रहे हैं उन्हें पासपोर्ट आवेदन करने के लिए पहले कोर्ट से शपथ पत्र भर कर पासपोर्ट कार्यालय में जमा करवाना पड़ता था। बाद में दस्तावेजों की जांच पड़ताल के बाद आवेदन को स्वीकार किया जाता था।

लेकिन विदेश मंत्रालय ने इस शर्त में परिवर्तन करते हुए अब ऐसे आवेदकों को छूट दी है। अब इस श्रेणी के आवेदक मात्र सादे कागज पर शपथ पत्र भर कर अपने सौतेले अभिभावक का विवरण दे सकते हैं। साथ ही सूचना के प्रति स्वयं को उत्तरदायी बनाना होगा। बाद में इसे पासपोर्ट आवेदन के साथ नत्थी करना होगा।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY