चरक हास्पिटल का निःशुल्क बाझपन शिविर रविवार को

0
48

रायबरेली(ब्यूरो)- लखनऊ स्थित तीन सौ बिस्तरों के चरक हास्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर की महिला रोग विशेषज्ञों ने महिलाओं में होने वाली बाझपन की बीमारी पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि अब यह बीमारी आम होती जा रही है। एक शोध के अनुसार वर्तमान में 25 से 30 फीसदी महिलाये बाझपन का शिकार है। उनका कहना था कि अब इस बीमारी का इलाज संभव है। यदि समय रहते इसका इलाज शुरू कर दिया जाये तो काफी कम खर्च और समय में महिलायें इस बीमारी से निजात पा सकती हैं।

वरिष्ठ बाझपन विशेषज्ञ डा0 नेहा मैनी गुप्ता एवं डा0 रति अधौलिया ने बताया कि 18 जून यानी रविवार को चरक हास्पिटल की ओर से हाथी पार्क तिराहा से निराला रोड पर स्थित आर्यन एन्क्लेव में एक निःशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन कर बाझपन से ग्रसित महिलाओं का चिकित्सकीय परीक्षण किया जायेगा। साथ ही उन्हें चिकित्सकीय परामर्श भी दिया जायेगा। कैम्प संयोजक शाह नवाज एवं अनमोल ने बताया कि शिविर में आयी महिलाओं को विशेष सुविधा के साथ हास्पिटल अपनी सेवायें उपलब्ध करायेगा। हास्पिटल के डायरेक्टर डा0 अश्वनी सिंह ने बताया कि महिलाओं के बाझपन से निजात के लिये हास्पिटल में सर्वश्रेष्ठ मशीनों एवं तकनीकों से लैस परखनली शिशु विभाग कार्यरत है। हास्पिटल के जन संपर्क अधिकारी सुनील कुमार बाजपेयी ने बताया कि हास्पिटल अपने सामाजिक सरोकार के क्रम में ऐसे निःशुल्क कैंप समय-समय पर आयोजित करता रहेगा।

रिपोर्ट- राजेश यादव 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY