बैंक घोटाला, सीबीआई जांच की मांग, बहिर्गमन

0
353

chattish gadh vidhansabhaछत्तीसगढ़ विधानसभा में आज राज्य के मुख्य विपक्षी दल कांग्रेेस ने इंदिरा प्रियदर्शनी बैंक द्वारा रिण वसूली को लेकर सवाल किया और इस मामले में सीबीआई जांच की मांग को लेकर सदन से बहिर्गमन किया।

विधानसभा में आज प्रश्नकाल के दौरान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने इंदिरा प्रियदर्शनी बैंक से एक करोड़ रूपए से अधिक राशि का रिण जिन संस्थाओं या व्यक्तियों को दिया गया है उनसे वसूली को लेकर सवाल किया।

जवाब में सहकारिता मंत्री दयालदास बघेल ने बताया कि सात रिण प्राप्तकर्ताओं से अभी तक राशि वसूल नहीं की गई है। सभी सातों प्रकरणों में सक्षम न्यायालय में वाद दायर किया गया है और वसूली की डिक्री प्राप्त किया गया है।

बघेल ने बताया कि जिन संस्थाओं और व्यक्तियों के खिलाफ वाद दायर किया गया है वह फर्जी है। इस मामले में फर्म का पता लगाया गया जो फर्जी निकला। मामला न्यायालय में है।

कांग्रेस नेता भूपेश बघेल ने कहा कि इंदिरा प्रियदर्शिनी बैंक में करोड़ांे रूपए का घपला किया गया है। इस मामले में जो आरोपी है उसका जब नार्को टेस्ट किया गया तब उसने कई लोगों का नाम लिया है। इस नार्को टेस्ट की सीडी को अभी तक न्यायालय में पेश क्यों नहीं किया गया है।

मंत्री ने कहा कि मामला न्यायालय में लंबित है। अब इस मामले में न्यायालय ही फैसला करेगा।

भूपेश बघेल ने कहा कि कई गरीब लोगों ने अपनी गाढ़ी कमाई इंदिरा प्रियदर्शिनी बैंक में जमा की थी। इस मामले की जांच के दौरान परिसमापक ने प्रकरण को सीबीआई से जांच कराने की बात कही थी। क्या इस मामले को सीबीआई को सौंपी जाएगी।

मंत्री ने कहा कि इंदिरा प्रियदर्शिनी बैंक में हुए भ्रष्टाचार के लिए बैंक प्रबंधन जिम्मेदार है। वसूली के लिए प्रयास किया जा रहा है।

कांग्रेस के सदस्य सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि फर्जी लोन किसने तैयार किया है और पैसा किसने प्राप्त किया है।

शर्मा के बयान के बाद लोकनिर्माण मंत्री राजेश मूणत ने कहा कि यह सभी को जानकारी है कि पैसा किसके पास गया है। बैंक के संचालक किस पार्टी के हैं। इसकी जानकारी भी है।

मंत्री के बयान के बाद कांग्रेस के सदस्यों ने नारेबाजी शुरू कर दी और मामले की सीबीआई जांच की मांग को लेकर सदन से बहिर्गमन कर दिया। (Data input- Bhasha)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here