सरकार अपना काम ठीक से नहीं करती इसीलिए न्यायपालिका को दखल देना पड़ता है : चीफ जस्टिस

0
587

proxy-14

भारत के प्रधान न्यायाधीश टी. एस. ठाकुर ने केंद्र सरकार द्वारा लगाये जा रहे न्यायिक हस्तक्षेप के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा न्यायपालिका किसी कार्य में तभी हस्तक्षेप करती है जब कार्यपालिका अपना कार्य पूरी ईमानदारी से नहीं कर पाती और अपनी संवैधानिक जिम्मेदारियां निभाने में विफल रहती है |

उन्होंने कहा “सरकार को आरोप मढने के बजे ईमानदारी से अपना काम करना चाहिए, लोग अदालतों में तभी आते हैं जब कार्यपालिका से निराश हो जाते हैं | अदालतें केवल अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी अदा करती हैं, अगर साकार अपना काम पूरी ईमानदारी और निष्ठां से करेगी तो इसकी ज़रुरत नहीं पड़ेगी |

उन्होंने कहा “अगर सरकारी एजेंसीयों की ओर से अनदेखी और नाकामी रहती है, तो न्यायपालिका निश्चित रूप से अपनी भूमिका अदा करेगी, अगर सरकारे अपना काम सही तरीके से करें, तो हस्तक्षेप की ज़रुरत नहीं पड़ेगी |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here