शिक्षा से बच्चे दूर शिक्षको की मनमानी

0
49

आरा (ब्यूरो)- भोजपुर जिला के अधिकतर बच्चे शिक्षा से दूर होते जा रहे है । सरकारी विद्यालयों मे पढाई नही होने से बच्चों मे मायूसी देखने को मिलता है। एक तरफ सरकार विकास की बात करती है लेकिन विकास शिक्षा की नही सडकों, नाली तथा गली का विकास कर रही है जबकि विकास शिक्षा की होनी चाहिए लेकिन सरकार शिक्षा के विकास मे फेल नजर आ रही है।

शिक्षक तो अपनी मांग सरकार से करते है लेकिन बच्चे शिक्षा का अधिकार किससे मांगने जाए। अमीर का बच्चा तो प्राईवेट स्कूलों का सहारा मिल जाता है लेकिन गरीब के बच्चों का सहारा सरकारी स्कूल है लेकिन पढाई नदारत है। बच्चे स्कूल आते- जाते है लेकिन उनके अंदर पढाई के प्रति मायूसी देखने को मिलता है। विकास की बात करनेवाले जरा स्कूल मे जाकर देखे किस परिस्थिति मे बच्चे पढाई करते है ।

बच्चों का कहना है कि क्लास मे  अंधेरा रहता है डर लगता है कि कब जर्जर क्लास गिर जाए गर्मी से राहत के लिए पंखा भी नही है इस परिस्थिति मे स्कूल जाने से बच्चे कतराते है। शिक्षक अपनी मांगों को लेकर लंबी  चौडी भाषण के साथ धरना पर बैठ जाते है। विकास की बात करनेवाली सरकार जरा स्कूलो मे झांक कर देखे इन मासूम बच्चों को तब मालूम होगा कि विकास क्य होता है।

रिपोर्ट- रामा शंकर प्रसाद

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY