आखिर चीन ने भारतीय सीमा के निकट क्योंकि इनती ज्यादा आर्मी तैनात

0
673

वॉशिंगटन- अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने पाकिस्तान में चीन की बढ़ती सैन्य उपस्थिति के प्रति आगाह करते हुए कहा है कि उसने (चीन) भारतीय सीमा पर अपनी रक्षा क्षमताओं में इजाफा कर ज्यादा सैनिक तैनात किए हैं। पूर्वी एशिया के उप रक्षामंत्री अब्राहम एम. डेनमार्क ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘हमने भारत की सीमा के निकट के इलाकों में चीनी सेना की ओर से क्षमता और बल मुद्रा में इजाफा पाया है।’ डेनमार्क ने चीनी जनवादी गणराज्य की सेना और सुरक्षा घटनाक्रम पर अमेरिकी कांग्रेस में पेंटागन की ओर से वार्षिक-2016 रिपोर्ट पेश किए जाने के बाद यह बात कही। हालांकि, डेनमार्क ने कहा कि यह तय करना मुश्किल है कि इसके पीछे वास्तविक मंशा क्या है।

तिब्बत में सैन्य कमान का स्तर उन्नत करने के चीन के कदम के बारे में कहा कि यह कहना मुश्किल है कि इसमें से कितना आंतरिक स्थिरता बरकरार रखने की आंतरिक मंशा से और कितना बाहरी मंशा से प्रेरित है। अब्राहम ने अमेरिकी रक्षामंत्री एश्टन कार्टर की हाल की भारत यात्रा को बहुत सकारात्मक और उत्पादक बताते हुए कहा कि अमेरिका भारत के साथ अपना द्विपक्षीय रिश्ता प्रगाढ़ करना जारी रखेगा। भारत एक अहम देश है।

चीन-पाक के समान सामरिक हित
अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि पाकिस्तान के साथ चीन के लंबे समय से दोस्ताना रिश्ते और समान सामरिक हित हैं। चीन के फैलते अंतरराष्ट्रीय आर्थिक हित के चलते चीनी नागरिकों, चीनी निवेश और संचार की अहम समुद्री लाइन की सुरक्षा के लिए जनमुक्ति सेना की नौसेना पर दूर-दराज के समुद्रों में संचालन की मांग बढ़ रही है। बहुत संभव है कि चीन पाकिस्तान समेत उन देशों में अतिरिक्त नौसैनिक साजो-सामान केंद्र स्थापित करना चाहेगा, जिसके साथ उसके दीर्घकालीन दोस्ताना रिश्ते और समान सामरिक हित हैं।

चीनी सैन्य निर्माण पर चिंता
पेंटागन ने अपनी रिपोर्ट में भारतीय सीमा के निकट चीनी सैन्य निर्माण पर चिंता जताते हुए कहा है कि चीन-भारत सीमा के विवादित हिस्सों पर तनाव बना हुआ है। रिपोर्ट में उत्तरी लद्दाख के बुसे में सितम्बर 2015 में चीनी सैनिकों की घुसपैठ, अरुणाचल और अक्साइ चिन्ह विवाद का भी जिक्र है।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here