अरुणाचल को भारत का अभिन्न अंग बताने पर भड़क गया चीन, अमेरिका से मांगेगा सफाई

0
1643

बीजिंग- अमेरिका के राजनयिक के उस बयान पर चीन पूरी तरह से बौखला गया है | अमेरिका के महावाणिज्यदूत क्रेग एल हॉल ने बीते अप्रैल माह में अपने भारत दौरे के दौरान अरुणांचल प्रदेश के मुख्यमंत्री कलिखो पुल से मुलाक़ात के दौरान अरुणांचल प्रदेश को भारत का अभिन्न अंग बताया था | अमेरिकी राजनयिक के इस बयान पर चीन ने कड़ा एतराज जताया है | चीन ने कहा कि वो इस मामले में अमेरिका से सफाई मांगेगा | चीन ने इस मामले में सख्त रुख अख्तियार करते हुए कहा है कि भारत और चीन सीमा विवाद के मामले में किसी भी तीसरे पक्ष की उपस्थिति स्थित को और अधिक उलझा सकती है |

चीन के विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है कि, “अमेरिकी राजनयिक के बयान पूरी तरह से तथ्यों से परे है और चीन ने इस मामले से जुडी रिपोर्ट पर गौर किया है | अब इस पूरे मामले पर अमेरिकी पक्ष से स्पष्टीकरण के लिए कहा जाएगा |

चीन अरुणांचल प्रदेश को चीन का हिस्सा मानता है –
चीन भारत का अभिन्न अंग है और आज़ादी के हजारों साल पहले से ही सदियों से ही चीन भारत का हिस्सा रहा है | लेकिन चीन आज़ादी के बाद से ही जबसे चीन ने तिब्बत पर कब्ज़ा किया है तभी से चीन अरुणांचल प्रदेश पर अपनी नजर गडाए हुए है | चीन का कहना है कि अरुणांचल प्रदेश तिब्बत का ही दक्षिणी भाग है और उस पर चीन का अधिकार होना चाहिए | लेकिन भारत उतनी कठोरता से चीन के इन सभी दावों को हमेशा से ठुकराता रहा है |

उधर हाल के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि चीन और भारत दोनों ही बेहद समझदार देश है | और इतना ही वे दोनों ही अपने-अपने मुद्दों को सुलझा लेने में समर्थ है | भारत और चीन के मामले में किसी भी तीसरे पक्ष की दखलंदाजी मामले को पूरी तरह से उलझा देगा | चीनी विदेश मंत्रालय की तरफ से यह भी कहा गया है कि चीन और भारत के बीच का सीमा विवाद चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता और चीनी लोगों की भावनाओं से जुडा हुआ है | किसी भी तीसरे देश को इस मामले में दखलंदाजी नहीं करनी चाहिए | चीन का तर्क है कि बाकी के देशों को इस मामले की सच्चाई नहीं पता है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY