चीनी पत्रकारों के वीजा मामले पर बौखलाई चीनी मीडिया, कहा यह तुच्छ मानसिकता

0
1353
china-flag (photo credit -thenextweb.com)
china-flag (photo credit -thenextweb.com)

भारत द्वारा चीनी पत्रकारों के वीजा की अवधि ना बढ़ाये जाने को लेकर चीनी मीडिया पूरी तरह बौखला गया है, चीन के सरकारी अखबार शिन्हुआ ने भारत को चेतावनी दी है, अखबार ने कहा है कि यदि भारत ने कदम चीन द्वारा उसे NSG में समर्थन ना दिए जाने की प्रतिक्रिया है तो भारत को यह समझ लेना चाहिए कि इसके गंभीर परिणाम होंगे |

चीनी अखबार ने कहा कि भारत के इस कदम को विदेशी मीडिया संस्थानों ने निष्कासन करार दिया है, क्योंकि भारत ने इन पत्रकारों के वीजा की अवधि ना बढ़ाये जाने के पीछे के आधिकारिक कारणों का खुलासा नहीं किया है, वहीँ भारतीय मीडिया का कहना है कि इन पत्रकारों पर फर्जीवाड़ा करके दिल्ली और मुंबई स्थित कई प्रतिबंधित विभागों में पहुँच बनाने की कोशिश करने का संदेह है, साथ ही यह जानकारी भी मिली है कि इन पत्रकारों ने निर्वासित कार्यकर्ताओं से मुलाकात की |

भारतीय मीडिया के इन सवालों के जवाब में चीनी अख़बार ने कहा कि चीनी पत्रकारों को इंटरव्यू लेने के लिए फर्जी नामों की ज़रुरत नहीं है, और निर्वासित तिब्बतियों का इंटरव्यू लेने का अनुरोध करना एक सामान्य सी प्रक्रिया है |

चीनी अखबार ने भारत द्वारा पत्रकारों का निर्वासन एक निकृष्ट कार्य शीर्षक के साथ एक सम्पादकीय छापा है जिसमे कहा गया कि भारत के इस कदम ने दुनिया भर में नकारात्मक सन्देश भेजा है | इससे अवश्य ही भारत और चीन के संबंधों पर बुरा असर पड़ेगा |

आपको बता दें कि भारत ने चीन के तीन पत्रकारों के वीजा की अवधि बढ़ाने से इनकार कर दिया है इन पत्रकारों ने चीनी मीडिया के दिल्ली ब्यूरो प्रमुख और मुंबई के दो चीनी पत्रकारों के नाम शामिल हैं | इन तीनों के ही वीजा कि अवधि 31 जुलाई को खत्म हो रही है और भारत के वीजा अधिकारीयों ने इन तीनों के ही वीजा की अवधि ना बढ़ाते हुए इन्हें 31 जुलाई तक देश छोड़ने का आदेश दे दिया है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY