याकूब मेमन का समर्थन करते सभ्रान्त नागरिक – दिव्येन्दु राय

याकूब मेमन को सजा तो मिल गयी लेकिन 22 साल बाद। विगत 22 वर्षो मे याकूब मेमन की धरपकङ मे एवं जेल मे रखने के दौरान देश की अच्छी खासी जमापुँजी लग गयी, याकूब मेमन एक आतंकवादी है यह पुरा देश जानता है लेकिन कुछ लोगो की उसके प्रति हमदर्दी समझ से परे है। मुम्बई बम ब्लास्ट मे जिन गाङियों का उपयोग किया गया वह याकूब मेमन के नाम पर थी एवं इस बम ब्लास्ट के लिये सारे पैसे याकूब मेमन के एकाउण्ट से ट्रान्सफर किये गये फिर भी देश के कुछ सभ्रान्त नागरिक याकूब मेमन को माफ कर देने की गुहार कर रहे थे।

भारत सरकार को याकूब मेमन का समर्थन कर रहे इन भारतीय नागरिको पर रासुका के तहत कार्यवाही सुनिश्चित करनी चाहिए जिससे की भविष्य मे कोई भारतीय नागरिक किसी आतंकवादी का समर्थन करते हुए यह याद रखे कि उसके खिलाफ भी रासुका के तहत कार्यवाही हो सकती है। देश के न्यायपालिका को आंतकवादियों के मामले मे सुनवाई तेज करनी चाहिए जिससे की उनके ऊपर व्यय किया जाने वाला सरकारी धन कम लगे। याकूब मेमन ने जो कुछ भी किया क्या उसे जेहाद कहा जायेगा या फिर जो लोग याकूब मेमन को छोङने की बात कर रहे हैं वह लोग इस बात को कैसे भुल जाते हैं कि याकूब मेमन और टाइगर मेमन ही मुम्बई बम ब्लास्ट के मुख्य कर्ताधर्ता थे।

दिव्येन्दु राय

 

Photo credit – NDTV

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY