स्वच्छ भारत मिशन सरकार की प्राथमिकता वाली योजनाओं में से एक है: सुरेश चंद्र मिश्रा

0
29

मैनपुरी(ब्यूरो)- जिला पंचायत राज अधिकारी सुरेश चंद्र मिश्रा ने आज सीएलटीएस ट्रेनिंग के तीसरे दिन कहा कि स्वच्छ भारत मिशन सरकार की प्राथमिकता वाली योजनाओं में से एक है और जनपद को 2 अक्टूबर 2018 तक खुले में शौचमुक्त किया जाना है| अगर सीएलटीएस विधा से हम लोग लोगों को स्वच्छता के प्रति सामूहिक जिम्मेदारी का निर्वहन करने के काबिल बना सके तो मैनपुरी को हम समय से पहले खुले में शौचमुक्त बना लेंगे। ट्रिगरिंग में आप लोग सीएलटीएस के सभी टूल्स का प्रयोग करें। गांव वालों के साथ प्रेम का वर्ताव करें और हम उनका सहयोग अपने मिशन की कामयाबी में लें। स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत आज सीएलटीएस ट्रेनिग के तीसरे दिन टीम लीडर दिनेेेश यादव ने प्रतिभागियों को सीएलटीएस के टूल्स के बारे में विस्तार से बताया।

पीलीभीत से आये ट्रेनर चिराग ने प्रतिभागियों से सभी टूल्स का प्रयोग कराकर ट्रिगरिंग का रिहर्सल कराया ए तदुपरांत सीएलटीएस की आठ टीमें तैयार की गयीं। मैनपुरी के स्वच्छताग्रहियों द्वारा की गयी रिहर्सल से ट्रेनर सन्तुष्ट दिखे।
गीत और नाटक के माध्यम से भी प्रतिभागियों को ट्रिगरिंग की जानकारी दी गयी।

सांजुली गुप्ता ने बताया कि सी एल टी एस के प्रमुख रूप से घृणाए शर्मएसहित कुल 13 टूल्स हैं। मुख्य रूप से जब हम गाँव में जाकर ट्रिगरिंग करते हैंए तब हम लोगों को गाँव वालों को खुले में मल के प्रति घृणाए शर्म पैदा करनी होती है। इसके लिए मानव मल की गणना करके बताया जाता है कि गाँव के लोग जितना मल खुले में छोड़ कर आता है, उससे गांव के चारों तरफ वातावरण दूषित हो जाता है। मानव मल के एक ग्राम में 1 करोड़ वायरस, 10 लाख वैक्टीरिया, 1000 परिजीवी सिस्ट और 100 अंडे होते है, जो विभिन्न प्रकार से हमारे भोजन के साथ मानव शरीर में पँहुचते हैं और विभिन्न बीमारियों से हमें ग्रसित करते हैं।

उन्होंने बताया कि एक मक्खी की 6 टांगों के मॉध्यम 6 मिली ग्राम मानव मल हमारे भोजन को प्रदूषित कर देता है। हमारे गाँव के चारों तरफ मक्खियों को भोजन के लिए मल उपलब्ध है और मक्खियां मल पर बैठकर हमारे भोजन को संक्रमित करती हैं। दिनेश यादव ने बताया कि हम लोग सी एल टी एस विधा के मॉध्यम से सभी चैंपियन गाँवों में जाकर प्रेक्टिकल भी करेंगे 09 टीमों को विभिन्न मॉध्यम से ट्रेनिग दी। प्रत्येक टीम से लोगों को बोलने के लिए प्रेरित किया गया। बोलने में संकोच करने प्रतिभागियों को लगातार प्रोत्साहित कर उन्हें खुल के बोलने के ट्रेंड किया। आज की ट्रेनिग में सभी प्रतिभागी उत्साहित नजर आये और अपने विचार खुल कर रखे।

सीएलटीएस ट्रेनिग में ट्रेनर द्वारा गीतों के मॉध्यम से ट्रेनिग के माहौल को रौचक और ज्ञान बर्धक बनाया गया। प्रतिभागियों को सीएलटीएस के सभी 13 टूल्स बताने के बाद उनसे टूल्स के बारे अलग अलग विचार जाने। जिला परियोजना समन्वयक नीरज शर्मा ने स्वच्छताग्रहियों से कहा कि 819 गांवों को 2 अक्टूबर 2018 तक खुले में शौच मुक्त करना है और इसके लिए 283 स्वच्छाग्रहियों को ट्रेनिंग दी जा रही है। यह सभी स्वच्छाग्रही गांव-गांव जाकर लोगों को प्रेरित कर उन्हें शौचालय बनाने के लिए प्रेरित करेंगे। लोग खुद अपना शौचालय खुद बनाने के लिए तैयार हो जायेंए ऐसा माहौल ट्रिगरिंग के द्वारा बनाना है।

मैनपुरी के विकास खंड जागीर के केलनपुर, अजीतगंज, राजलपुर, नगला सोती, विकास खण्ड मैनपुरी के अडूपुर, रूपपुर , भरतपुर, ओड़न मण्डल और विकास खण्ड जागीर के ललूपुरा में आज ट्रिगरिंग टीमों ने गांव वालों के सामने ट्रिगरिंग कर लोगों को खुले में शौच प्रथा समाप्त करने के लिए प्रेरित किया। आज की ट्रिगरिंग के लीडर रहे सांजुली गुप्ता, चिराग, दिनेश यादव, विपुल, फैजान, दिलीप, अनोज, रंजना और आशू यादव रहे।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here