मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी का कानून उन्नाव के अधिकारियों के सामने एक मजाक

0
143

पुरवा-उन्नाव : हर किसी को न्याय दिलाने की बात करने वाले अधिवक्ताओं की साख पर बट्टा लगाने वाले एक अधिवक्ता द्वारा एक महिला लेखपाल के मोबाइल पर अष्लील मैसेज भेजने वाले व अभद्रता करने वाले के विरूद्ध पीड़ित महिला लेखपाल ने 21 मार्च को तहसील दिवस में जिलाधिकारी के समक्ष पेष होकर षिकायती-पत्र देते हुये न्याय की गुहार लगायी थी जहां डी0एम0 साहिबा ने कप्तान साहिबा को कार्यवाही कराने की बात कही थी पर अब तक कोई कार्यवाही की गयी प्रतीत नही होती दिखाई दे रही है जबकि जनपद की बाग डोर दो-दो महिला अधिकारियों के हाथ में फिर भी महिला लेखपाल को अब तक न्याय नही मिला।

बताते चले कि जनपद की पुरवा तहसील में कार्यरत महिला लेखपाल को एक मजनू अधिवक्ता द्वारा कई माह से उसके मोबाइल नम्बर पर अष्लील मैसेज भेजकर हैरान व परेषान किया जा रहा है जिसकी षिकायत ओमन पावर हेल्प लाइन नम्बर 1090 पर दो बार की गयी तथा इसके अलावा उपजिलाधिकारी राजमुनि यादव उपपुलिस अधीक्षक सुषील कुमार सिंह व कोतवाली प्रभारी कौषलेन्द्र नाथ सिंह को लिखित षिकायती पत्र दिये गये परन्तु आज तक कोई कार्यवाही नही हुयी। हाल ही में 21 मार्च को जिलाधिकारी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुये तहसील दिवस की अध्यक्षता कर रही जिलाधिकारी अदिती सिंह के समक्ष पेष होकर पीड़िता ने षिकायती-पत्र सौपा जिस पर जिलाधिकारी ने तहसील दिवस में मौजूद जिले की कप्तान साहिबा नेहा पाण्डे को षिकायती-पत्र देते हुये कार्यवाही कराने का निर्देष दिया परन्तु अब तक पीड़ित महिला लेखपाल को न्याय नही मिला क्यों क्या योगी राज्य में कानून का डण्डा सिर्फ गरीबों पर और कमजोरो पर ही चलेगा या जनपद उन्नाव में महिलाओं के साथ अभद्रता करने पर कोई कार्यवाही नही होगी। महिला को न्याय न मिलने के कारण आम लोगो में एक चर्चा बनी है कि जब सरकारी कर्मचारी महिला को न्याय नही मिल पा रहा तो आम जनमानस न्याय की क्या उम्मीद करें।

रिपोर्ट – मोहम्मद अहमद चुनई

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY