अपने वाराणसी दौरे के आखिरी दिन मरीजों का हाल जानने पहुंचे सीएम योगी

0
155

वाराणसी (ब्यूरो)- उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने दो दिवसीय वाराणसी दौरे के अन्तिम दिन तुफानी दौरा कर श्री शिव प्रसाद गुप्त मंडलीय चिकित्सालय में मरीजो का हाल जाना। उन्होनेे सरकार द्वारा निःशुल्क उपलब्ध कराये जा रहे चिकित्सा सुविधाओं की जानकारी मरीजों से की और अस्पताल में हर बेड पर भर्ती मरीजों को देख चिकित्सा व्यवस्था की प्रशंसा भी की।

निरीक्षण के दौरान चिकित्सालय के आकस्मिक वार्ड में मेनहोल का ढक्कन खुला होने पर उन्होंने उसे ठीक कराए जाने हेतु मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को निर्देश दिया। इस दौरान वे आकस्मिक, आर्थोपेडिक, जनरल वार्डो में जाकर भर्ती मरीजों से कुशलक्षेंम पूछा तथा मौके पर मौजूद मुख्य चिकित्सा अधीक्षक सहित चिकित्सको को बेहत्तर से बेहत्तर चिकित्सा सुविधा मुहैया कराये जाने हेतु निर्देशित किया।

ततपश्चात् मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी शहर में बन रहे 7787.48 लाख की लागत से 1784 मीटर लम्बे निर्माणाधीन चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर एवं 1782.00 लाख की लागत से 652 मीटर लम्बे मण्डुवाडीह फ्लाईओवर औचक निरीक्षण किया। उन्होने युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर दोनों फ्लाईओवरों को निर्धारित समय सीमा में पूरा कराए जाने का निर्देश दिया।

मंडुआडीह निरीक्षण के दौरान कैंट विधायक सौरभ श्रीवास्तव द्वारा इस फ्लाईओवर के निर्माण के दौराने क्षेत्र की पेयजल एवं सीवर लाइनों को ध्वस्त हो जाने की जानकारी दिये जाने को संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ में क्षतिग्रस्त पेयजल एवं सीवर पाइप लाइन को युद्धस्तर पर अभियान चलाकर ठीक कराए जाने का निर्देश दिया। ताकि जन सामान्य को इससे कोई परेशानी कतई न होने पाये।

निर्माणाधीन चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर केनिरीक्षण के दौरान फ्लाईओवर के मानचित्र का भी अवलोकन किया तथा मौके पर मौजूद सेतु निगम के अधिकारियों को निर्देशित किया कि इस सेतु के निर्माण में और तेजी लाई जाए तथा निर्धारित अवधि में प्रत्येक दशा में पूरा कराकर जनोपयोगी बनाया जाय। उन्होने 97.72 करोड़ लागत से बनारस हिन्दू विश्वविधालय के प्रवेश द्वार के सामने-रामनगर (सामनेघाट) मार्ग पर गंगा नदी पर 923.95 मीटर लम्बे निर्माणाधीन सेतु के निर्माण कार्य का भी निरीक्षण किया और मौके पर मौजूद सेतु निगम के अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए कि प्रत्येक दशा में इस सेतु का कार्य 27 जून तक पूर्ण किया जाए।

उन्होंने निर्माण कार्य में कोई भी अतिरिक्त समय न दिये जाने की हिदायत देते हुए कहा की मौके पर श्रमिकों की और संख्या बढ़ा कर प्रत्येक दशा में निश्चित समय सीमा में कार्य पूर्ण कराया जाए। उन्होंने मौके पर मौजूद विभागीय अभियंताओं को गुणवत्ता के साथ कार्य कराए जाने की हिदायत दी।

मुख्यमंत्री ने दुर्गाकुण्ड एवं शंकुलधारा तालाब का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान ह्रदय योजनान्तर्गत शंकुलधारा तालाब का लगभग 19 लाख की लागत से कराए जा रहे खुदाई के कार्य को युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर पूरा कराए जाने का निर्देश दिया। उन्होंने तय समय सीमा में कार्य पूर्ण न होने पर इसमें और तेजी लाकर तुरंत पूरा कराने का निर्देश देते हुए कहॉ कि तालाब की खुदाई के दौरान इतनी अधिक खुदाई भी न कर दिया जाए, जिससे तालाब का पानी तलहटी में ही रह जाए।

उन्होनेे तालाब के किनारे-किनारे पार्थवे और लाइटिंग कराए जाने का भी निर्देश दिया। दुर्गाकुंड तालाब के निरीक्षण के दौरान मौके पर कराए गए 4.30 करोड़ की लागत से सौंदर्यीकरण एवं 18.50 करोड़ की लागत से पार्थवे, शौचालय, लाइटिंग बैठने के लिए बेच आदि जन सुविधाओं का भी निरीक्षण किया तथा मौके पर मौजूद अधिकारियों को कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया।
निरीक्षण के दौरान माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ में नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, होमगार्ड राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अनिल राजभर, न्याय, सूचना, खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री नीलकंठ तिवारी, विधायक उत्तरी रविन्द्र जायसवाल, विधायक कैण्ट सौरभ श्रीवास्तव सहित कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण, आईजी दीपक रतन, जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र, एसएसपी नितिन तिवारी सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

रिपोर्ट- रविन्द्रनाथ सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here