गायब जूनियर डाक्टरों और स्टाफ को बचाने के लिए सीएमओ ने किया प्रभारी चिकित्साधिकारी का ट्रांसफ़र, सीएमओ की भूमिका पर उठे सवाल

0
185


प्रतापगढ़ (ब्यूरों) : ड्यूटी से गायब रहकर सैलेरी लेने वाले डाक्टरों और अन्य स्टाफ के खिलाफ जब प्रभारी चिकित्साधिकारी ने कारण बताओ नोटिस जारी किया तो जूनियर डाक्टरों और अन्य स्टाफों ने मिलकर अपने बॉस का ही ट्रांसफर करा दिया। सीएमओ के इस कदम से साफ लगने लगा कि पूरे मामले की जानकारी उनको है कि ड्यूटी से गायब रहकर डाक्टर और अन्य स्टाफ सैलेरी ले रहा है। एमओआईसी के ट्रांसफर ने सीएमओ की भी भूमिका पर सवालिया निशान लगा दिया है। लोंगो का आरोप है कि सीएमओ की मिली भगत के कारण अस्पतालों में डाक्टर और अन्य स्टाफ नही आ रहें हैं।

मामला प्रतापगढ़ जिले के विकास खण्ड बाबागंज का है। जिले के इस ब्लाक में कई डाक्टर और स्वास्थ्य कर्मी कई महीनों से अस्पताल से गायब चल रहें थें। जिससे मरीजों का इलाज नही हो पा रहा था। जबकि कागजों पर इन स्वास्थ्य कर्मियों की हाजिरी और ड्यटी दोनों चल रही थी।

इस बात की जानकारी जब भैसाना गांव के रहने वाले समाज सेवी ज्ञानेंद्र मौर्य को हुई तो उन्होंने इस खेल को उजागर करने के लिए आरटीआई के तहत पूरे ब्लाक के डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों की जानकारी मांग ली। आरटीआई लगते ही पूरे विभाग में हड़कंप मच गया। प्रभारी चिकित्साधिकारी डाक्टर पंचदेव ने सभी गायब कर्मियों और डाक्टरो के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी कर दी। नोटिस मिलने से बौखलाए स्वास्थ्य कर्मियों ने सीएमओ से सांठ गांठ करके डाक्टर पंचदेव का ही ट्रांसफर करा दिया।

जबकि अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने महेशगंज थाने से चंद कदम दूर सीएचसी महेशगंज में एमर्जेन्सी और प्रसव कराने की भी प्रयास करना शुरू कर दिया था। नही तो इसके पहले मरीजो को आपातकालीन में इलाज के लिए मरीजो को और पुलिस को मेडिकल के लिए 14 किमी दूर बाबागंज पीएचसी जाना पड़ता था, लेकिन जूनियर डाक्टरों और कर्मियों पर जब पंचदेव ने शिकंजा कसना शुरू किया तो सभी ने जुआड और सीएमओ से सांठ गांठ करके पंचदेव का ट्रांसफर लालगंज करा दिया।

पूरे मामले में सीएमओ ने जिस तरह से गायब डाक्टरों और अन्य स्टाफ के खिलाफ कार्यवाही न करके पंचदेव का ही ट्रांसफर कर दिया। उससे लगता है कि जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था को चरमराने में कई साल से जिले में डेट सीएमओ की भूमिका संदिग्ध है। डाक्टरो के गायब रहने का मामला पूरे जनपद में चल रहा है। सूत्रों की माने तो केवल बाबागंज में करीब दर्जन भर डाक्टर और स्वास्थ्य कर्मी सहित गायब रहकर वेतन ले रहें हैं।

रिपोर्ट : विश्व दीपक त्रिपाठी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY