सीएमओ साहब! आपकी कोई नही सुनता…

0
213

रायबरेली(ब्यूरो)- जहाँ एक ओर रायबरेली cmo साहब ये दावा करते नज़र आते हैं कि जिले के सारे डॉक्टर मरीजो को सारी दवाइया अस्पताल से ही लिखे लेकिन शायद cmo साहब की कोई नही सुनता!

ताजा मामला लालगंज CHC का है जहाँ बुखार व सर्दी की दवा लेने मधु 25 नामक महिला गई थी| वहाँ ड्यूटी में तैनात डॉ. एस. के. सिंह ने मरीज को जाँच करने के लिए पर पर्ची थमा दी| आप सोच रहे होंगे अस्पताल की ही दी गई होंगी पर साहब को शायद अस्पताल की रिपोर्ट पर विश्वास नही इसलिए भेज दिया बाहर से जाँच कराने को, जहा मरीज ने 450 रुपये जांच में दिए चलो यहाँ तो गनीमत थी रिपोर्ट लेकर मरीज जब डॉक्टर साहब के पास दोबारा पहुची तो डॉक्टर साहब ने जाँच देखने के बाद दवाइया लिख दी वो भी बाहर की| फिर मरीज चला बाहर और खरीद डाली दवा| किसी तरह बिल आया 320 रुपये!

अब सवाल ये उठता है कि जब जिला अधिकारी का सख्त आदेश है कि अस्पताल की दवाइयां लिखी जाए तो डॉक्टरों किस आदेश के तहत ये दवाइया बाहर की लिख रहे है? क्या जिला अधिकारी या सरकार आदेश इनके लिए कोई मायने नही रखता? यहॉ गरीब किसान मजदूर ये सोच के अस्पताल आता है कि उसको इलाज की दवाइयां जाँचे सब अस्पताल से निःशुल्क हो जाएगी लेकिन ऐसा हो नही पाता| मजबूरी में या तो दवा बाहर से खरीदनी पड़ती है या खाली हाथ लौटना पड़ता है| आखिर ऐसा क्या कारण है कि इस पर शख्ती नही कर रहे अधिकारी या फिर केवल झूठे आदेश ही तक सीमित रह गए|

अस्पतालों में दवाएं भरी पड़ी है, जाँच मशीने लगी है लेकिन साहब लोगो इन दवाओं व मशीनों पर विश्वास नही सबसे बड़ी बात लालगंज सीएचसी में 3 पर्चियां का खेल है पीली, लाल, सफेद| उन्ही पर्चियां पर दवाइयां व जाँचे बाहर की लिखी जा रही है| अब देखना ये है कि क्या इस पर शख्त करवाई होती भी है या केवल हवा हवाई साबित होगा सब आदेश|

रिपोर्ट- अनुज मौर्य 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here