महाविद्यालय शिक्षकों ने किया विरोध प्रदर्शन, शैक्षणिक कार्य से विरत रहकर मनाया न्याय दिवस

बलिया(ब्यूरो)- जनपदीय महाविद्यालय शिक्षक एसोसिएशन बलिया ने जनपद के दसों महाविद्यालयों के शिक्षकों के साथ शैक्षणिक कार्य से विरत रहते हुए अपने-अपने महाविद्यालय पर ‘न्याय दिवस‘ आयोजित कर केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार के खिलाफ अपनी विभिन्न मांगों के संदर्भ में विरोध प्रदर्शन किया।

ज्ञातव्य हो कि राष्ट्रीय स्तर पर ‘एआई फुक्टो‘ के आहवान पर बुधवार को न्याय दिवस मजबूर होकर शिक्षकों द्वारा मनाया जा रहा है। पूरे देश-प्रदेश के कर्मचारी जहां सातवें वेतनमान का लाभ अर्जित कर रहे है वहीं हमारे मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा शिक्षकों हेतु सातवें वेतनमान की घोषणा करने के प्रति उपेक्षात्मक रवैया अपनाया जा रहा है। कहने को तो यह सरकार सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के प्रति प्रतिबद्ध है, किंतु हमारे मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जाडवेकर चीन की शिक्षा व्यवस्था से प्रेरणा ले रहे है और सम्पूर्ण शिक्षा व्यवस्था के बाजारीकरण द्वारा गरीब मजलूम एवं किसानों के बच्चों को शिक्षा से वंचित करने का कुचक्र रचा जा रहा है। पूरे देश-प्रदेश के विश्वविद्यालय, महाविद्यालय तदर्थ अस्थायी अंशकालिक, गेस्ट टीचर मानदेय शिक्षकों के भरोसे चलायी जा रही है।

बलिया जनपद के कुछ महाविद्यालय तो मात्र दो से चार शिक्षकों के भरोसे चल रहे है और ऐसी स्थिति में सरकार की कृत्सित मंशा को समझा जा सकता है। नये शिक्षकों को पुरानी पेंशन का लाभ नहीं मिल रहा है और न तो 2005 से नियुक्त शिक्षकों की पेंशन हेतु कोई कटौती हो रही है। यूजीसी एवं एआईसीटीई को समाप्त कर हिपा एवं हीरा जैसी संस्थाओं को स्थापित कर सरकार बाजारीकरण की तरफ बढ़ने का संकेत भी दे रही है। पीएचडी के छात्रों के पंजीकरण हेतु नेट, स्लेट की अनिवार्यता का सरकार द्वारा जो निर्णय लिया गया है इससे तो शिक्षक ही नहीं छात्र समुदाय के हितों पर भी कुठाराघात किया गया है। उक्त समस्याओं को दृष्टिगत रखते हुए बुधवार को शिक्षक एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. बृजेश सिंह एवं महामंत्री डॉ. अवनीश चंद्र पाण्डेय के नेतृत्व में न्याय दिवस मना रहे है और 24 जुलाई को संसद-मार्च हेतु जंतर-मंतर पर सरकार की नीतियों एवं निर्णयों के खिलाफ भाग लेंगे।

न्याय दिवस के मौके पर डॉ. रमाकांत सिंह, डॉ. अमलदार निहार, डॉ. अखिलेश राय, डॉ. यमुना प्रसाद मिश्र, डॉ. दीलीप श्रीवास्तव, डॉ. अजय पाण्डेय, डॉ. राजीव कुमार, डॉ. भागवत प्रसाद, डॉ. जैनेन्द्र पाण्डेय, डॉ. अशोक कुमार पाण्डेय, डॉ. सुधाकर यादव, डॉ. उदय पासवान, डॉ. गणेश कुमार पाठक, डॉ.माला, डॉ. सीमा, डॉ. निशा राघव, डॉ. निशा, डॉ. ममता वर्मा, डॉ. रीना सक्सेना, डॉ. ओपी यादव, डॉ. धीरेन्द्र कुमार, डॉ. शिवेन्द्र त्रिपाठी, डॉ. अजीत सिंह, डॉ. कौशल पाण्डेय, डॉ. ददन सिंह, डॉ. संजय त्रिपाठी, डॉ. विनीत नारायण दुबे, डॉ. निखिल सिंह, डॉ. आरपी सिंह, डॉ. शैलेन्द्र सिंह, डॉ. सूबेदार सिंह, डॉ. विजयानंद पाठक, डॉ. अखिलेश प्रसाद, डॉ. अनुराग भटनागर आदि मौजूद रहे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here