महाविद्यालय मे तीसरे दिन भी प्रशिक्षित हुए रोवर्स-रेंजर्स

0
157

savitri bai jyutibafule mahavidyalya

चकिया/चन्दौली(ब्यूरो)- सावित्री बाई फूले राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में चल रहे पांच दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के तीसरे दिन भी रोवर्स रेंजर्स प्रशिक्षित हुए। इसमें उन्हें शरीर को स्वस्थ रखने के गुर बताये गए।

जिला ट्रेनिंग काउंसलर कैलाश प्रसाद ने कहा रोवर्स-रेंजर्स के लिए स्वच्छता बेहद जरूरी है। तन व मन स्वस्थ होने पर ही प्रशिक्षण में भाग लिया जा सकता है। अस्वस्थ प्रशिक्षणार्थी का मन बताई गई बातों में नहीं लग पाता है। इससे वह सीखने में अन्य प्रशिक्षाणार्थियों से पीछे रह जाता है। बताया गया कि शरीर को प्रतिदिन स्नान व स्वच्छ कपड़े धारण कर स्वस्थ रखा जा सकता है।

स्वच्छता शरीर के तमाम बीमारियों का नाशक है। इसके पूर्व टोली सीनियर राम आशीष सिंह व रोशनी के नेतृत्व में रोवर्स-रेंजर्स की टोलियों ने महाविद्यालय परिसर की साफ सफाई की। प्रशिक्षकों द्वारा सफाई के दौरान कूड़ा करकट के प्रबंधन की जानकारी दी गई। कूड़ा निस्तारण के लिए सबसे सुगम संसाधन गड्ढा बताया गया।

कहा निश्चित मानक के अनुसार गड्ढे की गहराई व चौड़ाई बनाकर इसमें कूड़ों को निस्तारित करने से कीटाणु जहां जन सामान्य को हानि नहीं पहुंचा सकते वही इन कूड़ों का जैविक उर्वरकों के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इस दौरान डा. कौशल कुमार श्रीवास्तव, डा. क्रांति कुमार त्रिवेदी, डा. प्रियंका पटेल, डा. माधवी शुक्ला, देवेन्द्र सिंह, डा. मिथिलेश कुमार, पुनीता, महेन्द्र कुमार के अलावा प्रशिक्षाणार्थी शिल्पा, सुमन, निराली, पूजा, विरेन्द्र, विमलेश पाल, पिंटू कुमार समेत कई प्रशिक्षणार्थी उपस्थित थे।
रिपोर्ट-दीपनारायण यादव/उमेश दुबे
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY