महा मूर्ख दिवस पर हुआ हास्य कवि सम्मेलन

0
369

मुगलसराय (ब्यूरो)- महामूर्ख दिवस पर जनपद की अग्रणी सासंकृतिक सामाजिक संस्था अस्मिता नाट्य संस्थान एवं अलीनगर स्थित सैक्षणिक संस्था ज्योति कानवेंट स्कूल के संयुक्त तत्वावधान मे मुक्ताकाश के नीचे स्थानीय जी टी रोड स्थित सुभाष पार्क के प्रांगण मे नवनिर्मित मंच पर हास्य कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया ।

इस दौरान दूल्हा बने उल्लू को एवं दुल्हन बनी गधी का विवाह कराने की कोशिश की गई। कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए नगर के प्रसिद्ध बाल रोग विशेषज्ञ डा. उमाशरण पाण्डेय ने कहा हँसना जीवन का महत्वपूर्ण अंग है इसके बिना जीवन अधूरा लगता है उक्त अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप मे व्यापार मंडल अध्यक्ष रमेश जायसवाल ने अपने संबोधन मे कहा कि नगर मे ऐसे कार्यक्रम का आयोजन होते रहना चाहिये ताकि नगर के लोग स्वस्थ रहें।

महामूर्ख सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए डा. आनंद श्रीवास्तव ने कहा कि इस महामूर्ख दिवस पर नगरवासियों को एक ऐसी विटामिन की खुराक मिल रही है जो हमेशा के लिये यादगार होगी। तत्पश्चात तीनों अतिथियों द्वारा माँ सरस्वती के तेल चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। कवि सम्मेलन के प्रारंभ मे सर्वप्रथम शशीकांत सिंह ने माँ सरस्वती का ध्यान गीत प्रस्तुत कर आगाज किया उसके बाद पुश्प प्रेम परबोलते हुए कहा कि खत भी उनकी इल्ज़ाम भी उनका हम तो कमबख्त उनके प्यार मे मारे गये सुनाया जिसे लोगों ने पसंद किया।

अगली पक्ति मे चपाचप बनारसी ने लाल टमाटर गुलाबी रुपया सुनाकर श्रोताओं की ताली बटोरी। सुखमंगल सिंह ने हमारा हो रहा हिंदुस्तान आओ पाकिस्तान सुनाकर देश प्रेम जागृत किया तो वहीं चिंतित बनारसी ने दिन रात हमको नोट बदलने की याद आई पुरानी लगने लगी हमको अपनी लुगाई सुनाकर हास्य से श्रोताओं को सराबोर किया। रीता जयहिंद अरोडा ने देश भक्ति को पुनः जागृत करते हुए जब पाक साफ़ कर लौट कर आएंगे हमारे वीर जवान सुना कर जमकर तालियाँ बटोरी वहीं नगर के चर्चित कवि सुभाष क्षेत्रपाल ने बढ़ती हुई आबादी मे बदलते नोट पर व्यंग पढ़कर लोगों को सोंचने पर मजबूर किया तत्पश्चात रोशन उस्मानी ने विद्यालयी अव्यवस्था पर कुठाराघात करते हुए कविता पढ़ कर लोगों मे एक नए राह का संचार करने की कोशिश की।

कार्यक्रम का संचालन कर रहे वाराणसी से आए कवि इन्द्रजीत निर्भिक ने हास्य व्यंग पर कविता एक दिन हमसे मिले उल्लू मूर्ख गदहों के सरदार से कहने लगे सुनो हमारी बातें चार पढ़ते हुए श्रोताओं का मन मोह लिया । उक्त अवसर पर विशिष्ट अतिथि डा. राजकुमार गुप्ता एवं कुंदन सिंह एडवोकेट संतोष पाठक एडवोकेट ने आये हुए अतिथियों को सम्मान पत्र व स्मृतिचिन्ह दे सम्मानित किया ।

समापन अवसर पर कार्यक्रम संयोजक विजय कुमार गुप्ता ने कहा कि आज के व्यस्तता भरे माहौल मे दो पल हँसना ज़रूरी है संस्था का अथक प्रयास है कि इस प्रकार के आयोजन से लोगों मे कुछ अलग श्रेणी जीने की तमन्ना जागृत हो ।कार्यक्रम मे आये अतिथियों का स्वागत कृष्ण मोहन गुप्ता राहुल गुप्ता राजेश गुप्ता ने संयुक्त रूप से किया।कार्यक्रम को सफल बनाने मे विक्की गुप्ता राकेश अग्रवाल राजू अरोडा विपिन अग्रहरी कु. सुमन सिंह कु. सिखा सिंह आदि ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।

रिपोर्ट-उमेश दुबे

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here