माफियाओं पर अंकुश लगाने के लिए बनी समिति

0
50

बलिया (ब्यूरो)- शासन के निर्देश पर भूमाफिया, खनन माफिया सहित किसी भी क्षेत्र में पैर जमा चुके माफियाओं को चिन्हित कर उन पर अंकुश लगाने के लिए बनी समिति की बैठक जिलाधिकारी गोविंद राजू एनएस ने कलेक्ट्रेट सभागार में की।

उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को समिति के एक-एक कार्यों से अवगत कराया। कहा सभी अधिकारी ईमानदारी से मिले दायित्वों का निर्वहन करें तो निश्चित ही किसी भी क्षेत्र के माफियाओं पर अंकुश लग जाएगा। निर्देश दिया कि अपने-अपने विभाग से सम्बन्धित विन्दुओं पर कार्यवाही करें। आपस में समन्वय स्थापित कर ऐसे कार्य करें जिससे बेहतर कानून व्यवस्था स्थापित हो। लोगों के लिए भयमुक्त वातावरण बनाएं।

शासन प्रशासन के प्रति जनसामान्य में सकारात्मक संदेश जाए। विशेष रूप से पुलिस के आचरण व व्यवहार में ऐसा सकारात्मक परिवर्तन दिखे जिससे जनता के बीच उनको पूरा सम्मान मिले। स्वच्छता अभियान की सफलता के लिए डीपीआरओ को पर्यवेक्षण करते रहने का निर्देश देते हुए कहा कि इस राष्ट्रीय कार्यक्रम को शत प्रतिशत सफल बनाना है।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर शीर्ष प्राथमिकता के आधार पर एक समिति का गठन किया गया जो कि भूमाफिया, खनन माफिया, वन माफिया, खाद्यान्न एवं परिवहन माफिया, गोवंश तस्करी माफिया सहित अन्य सभी अराजक, असामाजिक व अपराधिक तत्वों को चिन्हित कर उनके विरूद्ध योजनाबद्ध तरीके से कार्यवाही सुनिश्चित कराएगी। समिति के अध्यक्ष अपर जिलाधिकारी व सचिव अपर पुलिस अधीक्षक हैं।

सदस्य के रूप में तहसील के उपजिलाधिकारी, सीओ, खान अधिकारी, पशु चिकित्साधिकारी, एआरटीओ, डिप्टी आरएमओ, आबकारी अधिकारी, डीएफओ, जिला पूर्ति अधिकारी, डीपीआरओ, मुख्य अग्निशमन अधिकारी व समस्त थानाध्यक्ष कार्य करेंगे। बैठक में समिति के अध्यक्ष, सचिव व सभी सदस्य मौजूद थे।

पुलिस की छवि बेहतर बनाने पर जोर –
समिति के माध्यम से पुलिस प्रशासन की बेहतर छवि बनाने पर विशेष जोर दिया गया है। जनसामान्य में पुलिस की अच्छी छवि बनाने के लिए समाधान दिवस पर कुछ अलग व्यवस्था लाई जाएगी। आन्तरिक अनुशासन, अनुशासनहीन कर्मियों के विरूद्ध कार्रवाई तथा उनके समस्याओं के निदान के लिए समय समय पर समिति की बैठक पुलिस अधीक्षक करेंगे।

थानों में निष्प्रयोज्य पड़े वाहनों का मूल्यांकन शीघ्र निस्तारण की कार्यवाही हो। थाने में किसी को अनावश्यक न बैठाया जाए तथा आगन्तुकों के साथ बेहतर व्यवहार हो। थानों में साफ सफाई नही मिलने पर समिति कार्रवाई के लिए पुलिस अधीक्षक को अवगत कराएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि समिति के माध्यम से यूपी 100 को और पारदर्शी बनाया जाए। पुलिस कर्मियों की सत्यनिष्ठा को लेकर शासन के जिरो टारलेंस की नीति का पालन कराया जाए। किसी भी घटना को विना देरी किये संज्ञान में लें और कार्रवाई हो।

आगजनी की घटना पर भी गम्भीरता बरतें और इसे रोकने को समिति एहतियाती कदम उठाये। गांवों में चौकीदार, सिविल डिफेंस स्वयं सेवकों का भी सहयोग लेते हुए अपराध रोकने में उनकी भूमिका सुनिश्चित की जाए। अवैध शराब पर भी सख्ती बरतने का निर्देश आबकारी अधिकारी को दिया।

तहसील स्तर पर सक्रियता जरूरी-
जिलाधिकारी ने कहा कि समिति के माध्यम से तहसील स्तर पर सक्रिय होकर समस्याओं का निदान कर दिया जाए तो आमजन को काफी राहत मिलेगी। निर्देश दिया कि तहसील स्तर पर समस्त अधिकारियों जैसे मार्केटिंग इंस्पेक्टर, एबीएसए, प्रभारी चिकित्साधिकारी, खाद्य गोदाम, बिजली व आम जनता की सुविधाओं से जुड़े अधिकारी आदि का मोबाइल नम्बर हर एक दूसरे के पास हो।

प्रत्येक दिन समय निकालकर तहसील क्षेत्र के अस्पताल, स्कूल, आंगनबाडी केंद्र, ब्लाक, निर्माणाधीन सड़क या किसी न किसी सरकारी केंद्र का निरीक्षण किया जाए। कुल मिलाकर तहसील स्तर की समस्याओं को निराकरण करा दिया जाए। तहसील स्तर पर एसडीएम, सीओ विभिन्न क्षेत्रों के माफियाओं को चिन्हित करते हुए समय-समय पर तहसील स्तर पर ही बैठक करते रहेंगे।

प्रत्येक शनिवार को देगी रिपोर्ट-
शासन द्वारा निर्धारित विभिन्न विन्दुओं पर समिति कार्यवाही करते हुए प्रत्येक शनिवार को अपनी आख्या जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक को प्रस्तुत करेगी। किसी समस्या का समाधान न होने की स्थिति में डीएम व एसपी के सामने अपना सुझाव रखेगी।

रिपोर्ट- संतोष कुमार शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here