CWG 2018: भारत ने एक बार फिर से रचा इतिहास, 66 पदकों के साथ खत्म हुआ कॉमनवेल्थ का सफ़र

नई दिल्ली- आस्ट्रेलिया में चल रहे 21वें कॉमनवेल्थ खेलों का आज समापन हो गया है, 10 दिनों तक चले खेलों के इस कुम्भ में भारत ने कुल 66 पदक जीतकर विश्व के सबसे श्रेष्ठ माने जाने वाले कॉमनवेल्थ देशों की लिस्ट में तीसरा स्थान प्राप्त कर लिया है | भारत ने जिस शानदार अंदाज में खेलों इस कुम्भ मेले की शुरुवात की थी उसका उतने ही गौरवशाली तरीके से समापन भी किया है | भारत ने इस कॉमनवेल्थ गेम्स में 66 पदक जीतकर तीसरा सर्वकालिक प्रदर्शन किया है |

आपको बता दें कि कॉमनवेल्थ खेलों के अंतिम दिन हिन्दुस्तान के करोंड़ों खेल प्रेमियों की नज़रें टूर्नामेंट के आखिरी दिन खेले जा रहे खेलों पर टिकी थी और हर हिन्दुस्तानी को इस बात की फ़िक्र थी कि क्या हिन्दुस्तानी खिलाड़ी वर्ष 2014 में ग्लास्गो में हुए कॉमनवेल्थ खेलों में भारतीय खिलाडियों द्वारा बनाये गए कीर्तिमान को ध्वस्त कर एक नया कीर्तिमान स्थापित कर पायेंगे या नहीं लेकिन भारतीय खिलाडियों ने भारत की करोंड़ों जनता की उम्मीदों पर खरा उतरते हए ग्लास्गो के 64 पदकों के अपने ही देश के खिलाडियों द्वारा बनाए गए कीर्तिमान को ध्वस्त कर दिया है और 66 पदकों का एक नया कीर्तिमान बना दिया है | हालाँकि हिन्दुस्तानियों को इस बात का मलाल अवश्य होगा कि भारतीय सेना मैनचेस्टर में हुए कॉमनवेल्थ खेलों के 69 पदकों के रिकार्ड को तोड़ने में असफल रही है |

आपको बताते चलते है कि इससे पहले भारत ने साल 2010 में हुए दिल्ली कॉमनवेल्थ खेलों में एतिहासिक प्रदर्शन करते हुए 101 और साल 2002 में मैनचेस्टर में हुए टूर्नामेंट में 69 पदक जीत कर इतिहास रच दिया था | भारत का यह तीसरा सबसे शानदार प्रदर्शन रहा है जिसनें एक बात तो स्पष्ट कर दी है कि भारतीय लोगों में खेलों के प्रति रुझान दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा है |

जब आपस में टकराए हिन्दुस्तानी-
आपको बता दें कि भारतीय खिलाडियों का जलवा कॉमनवेल्थ खेलों में कैसा था इसका इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि सयाना नेहवाल ने महिला सिंगल्स में हमवतन और रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता पी.वी. सिन्धु से टकराई और उन्होंने पी.वी. को हराकर अंतिम दिन यानी की रविवार को गोल्ड मेडल अपने नाम किया है | लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता सायना ने सिंधु को 56 मिनट तक चले इस मैच में 21-18, 23-21 से मात देकर राष्ट्रमल खेलों का दूसरा स्वर्ण पदक अपने नाम किया |

वहीं पुरुष वर्ग में वर्ल्ड नम्बर-1 भारतीय खिलाड़ी किदांबी श्रीकांत उलटफेर का शिकार हो गए और स्वर्ण पदक से चूक गए | श्रीकांत को मलेशिया के दिग्गज ली चोंग वेई ने एक घंटे पांच मिनट में 19-21, 21-14, 21-14 से मात देकर जीत हासिल की |

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here