महिला चिकित्सक की उपस्थिति नियमित न होने को लेकर मुख्यमंत्री को लिखा शिकायती पत्र

0
38

कछौना/हरदोई(ब्यूरो)– सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इन दिनों महिला चिकित्सक न होने के कारण गर्भवती महिलाओं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है, जिसकी शिकायत जय हिंद जय भारत मंच ने मुख्यमंत्री को पत्र के माध्यम से की है।

सरकार जननी सुरक्षा योजना पर लाखों रुपये पानी की तरह बहा रही है जिसका उद्देश्य यह है कि असमय गर्भवती महिला व बच्चों की मौत न हो और संस्थागत प्रसव सरकारी अस्पतालों में हो, परन्तु विभागीय अधिकारियों की अनदेखी के चलते सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कछौना में एक माह से महिला चिकित्सक अवकाश पर हैं और पूर्व में भी अक्सर लगातार गायब रहने की शिकायत बनी रहती है।

महिला चिकित्सक के न होने से गर्भवती महिलाएँ गाँव मे स्थित अप्रशिक्षित दाइयों व झोलाछाप डॉक्टरों के सहारे इलाज कराने को मजबूर हैं। महिलाओं के स्वास्थ्य से सम्बंधित योजनायें कागजों तक ही सीमित हैं। ग्राम पंचायतों में स्थित एएनएम सेंटर पर एएनएम नहीं जाती हैं, जिससे गर्भवती महिलाओं का पोषण व टीकाकरण कार्य प्रभावित होता है। गर्भवती महिलाओं के लिए बाल पुष्टाहार विभाग से संचालित हौसला पोषण योजना भी दो माह से बंद पड़ी है। शायद वर्तमान सरकार को महिलाओं के पोषण और सुरक्षा की परवाह नहीं है। जिसके चलते आये दिन कोई न कोई गर्भवती महिला के साथ अनहोनी घटना होने की खबर प्रकाश में आती रहती है।

इस पूरे प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए जय हिंद जय भारत मंच ने मुख्यमंत्री जी को पत्र लिखकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कछौना में महिला चिकित्सक की नियमित उपस्थिति की मांग की है| जिससे गर्भवती महिलाओं को अपने इलाज हेतु इधर-उधर न भटकना पड़े।

रिपोर्ट- पी.डी. गुप्ता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here