विवेचनाओं के निस्तारण में आयेगी तेजी, कम्प्यूटर साफ्टवेयर के माध्यम से की जायेगी मानिटरिंग

0
47

मिर्ज़ापुर ब्यूरो : श्री आशीष तिवारी पुलिस अधीक्षक मीरजापुर महोदय द्वारा विवेचनाओं के निस्तारण में हो रहे विलम्ब को गम्भीरता से लेते हुये विवेचनाओं की मानिटरिंग कम्प्यूटर साफ्टवेयर के माध्यम से कराये जाने हेतु कार्ययोजना तैयार की गयी है। एेसे विवेचकों के विरूद्ध कार्यवाही किये जाने हेतु कार्ययोजना तैयार की गयी है। अब ऐसे विवेचक जो विवेचनाओं का सही तरीके से समयबद्ध निस्तारण नहीं करते हैं, उनकी पहचान करते हुये उनके विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। विवेचकों को मुकदमों के निस्तारण करने हेतु समयसीमा का निर्धारण किया गया है।

विवेचनाओं के निस्तारण की मानिटरिंग कम्प्यूटर साफ्टवेयर द्वारा किये जाने से विवेचनाओं के निस्तारण में तेजी आयेगी एवं समयबद्ध निस्तारण किया जा सकेगा। विवेचनाओं के समयबद्ध निस्तारण हेतु कम्प्यूटर साफ्टवेयर द्वारा होने वाली मानिटरिंग के सम्बन्ध में समस्त क्षेत्राधिकारीगण एवं थाना/चौकी प्रभारियों को अवगत कराते हुये निर्धारित समयसीमा में विवेचनाओं का निस्तारण कराये जाने हेतु निर्देशित किया गया है तथा बताया गया कि विवेचनाओं का समयबद्ध निस्तारण न करने पर सम्बन्धित विवेचक के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। विभिन्न मुकदमों के निस्तारण हेतु निर्धारित समयसीमा इस प्रकार हैं- हत्या, बलात्कार के मुकदमों हेतु 60 दिवस, दहेज उत्पीड़न व खान एवं खनिज अधि0, आबकारी अधि0 के मुकदमों हेतु 15 दिवस, मारपीट व 135 विद्युत अधिनियम व लो0सं0क्ष0नि0 अधि0 हेतु 07 दिवस,धोखाधड़ी, एक्सीडेन्ट व आईटी एक्ट के मुकदमों हेतु 20 दिवस, गैंगेस्टर के मुकदमों हेतु 90 दिवस, चोरी व वाहन चोरी के मुकदमो हेतु 25 दिवस, दहेज हत्या व अपहरण के मुकदमों हेतु 45 दिवस, बलवा हेतु 20 दिवस निर्धारित किया गया है।

रिपोर्ट – अंशू मिश्रा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here