03 सितंबर, 2015 को देश के 91 प्रमुख जलाशयों की संग्रहण स्‍थिति

0
586

dam

देश के  91 महत्‍वपूर्ण जलाशयों में  3 सितंबर, 2015  को 92.922  बीसीएम (अरब घन मीटर) जल का संग्रहण आंका गया था। यह इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 59  प्रतिशत है। यह पिछले वर्ष की इसी अवधि के कुल संग्रहण का 84 प्रतिशत तथा पिछले दस वर्षों के औसत जल संग्रहण का 84 प्रतिशत है।

इन 91 जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता 157.799 बीसीएम है जो देश की अनुमानित संग्रहण क्षमता 253.388 बीसीएम का लगभग 62 प्रतिशत है।

 

क्षेत्रवार संग्रहण स्‍थिति

उत्‍तरी क्षेत्र

उत्‍तरी क्षेत्र में हिमाचल प्रदेश, पंजाब तथा राजस्‍थान आते हैं। इस क्षेत्र में 18.01 बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले 6 जलाशय हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्‍ध संग्रहण  16.45 बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 91 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्‍थिति 79 प्रतिशत थी। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों का पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण कुल क्षमता का 78 प्रतिशत था। इस तरह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में चालू वर्ष में संग्रहण बेहतर है और यह पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से भी बेहतर है।

पूर्वी क्षेत्र

पूर्वी क्षेत्र में झारखंड, ओडिशा, पश्‍चिम बंगाल एवं त्रिपुरा आते हैं। इस क्षेत्र में 18.83 बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले 15 जलाशय हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्‍ध संग्रहण 10.98 बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का  58 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्‍थिति 67  प्रतिशत थी और इसी अवधि में इन जलाशयों में पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण कुल क्षमता का 64 प्रतिशत था। इस तरह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में चालू वर्ष में संग्रहण  कम  रहा और यह पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से भी कम है।

 

पश्‍चिमी क्षेत्र

पश्‍चिमी क्षेत्र में गुजरात तथा महाराष्‍ट्र आते हैं। इस क्षेत्र में 27.07  बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले 27 जलाशय हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्‍ध संग्रहण 15.93 बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल क्षमता का 59 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्‍थित 70 प्रतिशत थी और इसी अवधि में इन जलाशयों में पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण कुल क्षमता का 72 प्रतिशत था। इस तरह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में चालू वर्ष में संग्रहण कम है, पर पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से कम है।

 

 मध्‍य क्षेत्र

मध्‍य क्षेत्र में उत्‍तर प्रदेश, उत्‍तराखंड, मध्‍य प्रदेश तथा छत्‍तीसगढ़ आते हैं। इस क्षेत्र में 42.30 बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले 12 जलाशय हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्‍ध संग्रहण 32.42 बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 77 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्‍थिति 74 प्रतिशत थी और इसी अवधि में इन जलाशयों में पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण कुल क्षमता का 61 प्रतिशत था। इस तरह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में चालू वर्ष में संग्रहण बेहतर रहा और यह पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से भी बेहतर रहा है।

दक्षिणी क्षेत्र

दक्षिणी क्षेत्र में आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, (दोनों राज्‍यों में दो मिश्रित परियोजनाएं) कर्नाटक, केरल एवं तमिलनाडु आते हैं। इस क्षेत्र में 51.59 बीसीएम की कुल संग्रहण क्षमता वाले 31 जलाशय हैं। इन जलाशयों में कुल उपलब्‍ध संग्रहण 17.14 बीसीएम है, जो इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 33  प्रतिशत है। पिछले वर्ष की इसी अवधि में इन जलाशयों की संग्रहण स्‍थिति 67 प्रतिशत थी और इसी अवधि में इन जलाशयों में पिछले दस वर्षों का औसत संग्रहण कुल क्षमता का 75 प्रतिशत था। इस तरह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में चालू वर्ष में संग्रहण कम रहा, और यह पिछले दस वर्षों की इसी अवधि के दौरान रहे औसत संग्रहण से कम है।

पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में जिन राज्‍यों में संग्रहण स्थिति अच्‍छी रही उनमें हिमाचल प्रदेश,  पंजाब, राजस्‍थान, पश्‍चिम बंगाल, त्रिपुरा गुजरात,  उत्तराखंड और मध्‍यप्रदेश हैं। पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में आंध्र प्रदेश में संग्रहण समान रहा। पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में जिन राज्यों में जल संग्रहण कम है उनमें झारखंड,  ओडिशा, महाराष्‍ट्र, छत्‍तीसगढ़, उत्‍तर प्रदेश,  आंध्र प्रदेश तेलंगाना, (दोनों राज्‍यों में दो मिश्रित परियोजनाएं) कर्नाटक, केरल तथा तमिलनाडु शामिल हैं।

 

Source – PIB

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here