ढाई करोड़ खर्च के बाद भी अंग्रेजों के जमाने की तहसील भवन का निर्माण अधूरा

0
16

हसनगंज/उन्नाव (ब्यूरो) – सरकार के द्वारा ढाई करोड़ रुपये की मंजूरी देने के बाद भी ब्रिटिश हुकूमत मे बनी तहसील का जजॅर भवन नए भवन के इंतजार में दम तोड़ रहा है।निवर्तमान एसडीएम की आपत्ति के चलते एक वर्ष से निर्माण कार्य जांच के नाम पर अधर में लटका हुआ है। बताते चलें जनपद की सबसे बड़ी तहसील हसनगंज बिृटिश हुकूमत में सन 1881 में भवन का निर्माण कराया गया था। लेकिन तबसे मरम्मत के नाम पर लाखों रुपये खचॅ किये गये। फिर भी जजॅर भवन की हालत खस्ताहाल होकर दम तोड़ रहा है। जबकि पिछली सपा सरकार ने नये भवन निर्माण के लिए ढाई लाख रुपए की स्वीकृति दी थी। लेकिन निवर्तमान आई ए एस अधिकारी एस डी एम मनीष बंसल ने मानक व गुणवत्ता सही कराने के लिए आपत्ति लगाकर टी ए सी जांच कराने की रिपोर्ट डी एम को दी थी।

जिस पर जांच के नाम पर खानापूर्ति करने में लगभग एक साल गुजर गया। खास बात यह है कि टेक्निकल जांच में मात्र तीन ईट पीली निकलने की घपलेबाजी पायी गयी है। जिससे वषोॅ से निर्माण कार्य ठप पड़ा हुआ है। वहीं अंग्रेजों जमाने में बने तहसील भवन के जजॅर होने से खपरैल आयेदिन गिरते रहते हैं। और थोड़ी सी वारिश में सरकारी अभिलेखों को बचाना कर्मचारियों के लिए मुश्किल हो जाता है। थोड़ी सी वारिश में टपकते पानी व गिरते खपरैल के बीच में जान जोखिम में डाल कर ड्यूटी पूरी कर रहे हैं। किस समय खपरैल गिर जाए कोई भरोसा नहीं है। फिर भी पुराने जर्जर तहसील भवन में अधिकारी कर्मचारी बैठने को मजबूर हैं। जबकि 2011 में नये भवन निर्माण की प्रक्रिया शुरू हुई थी। जिसको उत्तर प्रदेश राज्य निर्माण संघ ने 2015 में कार्य शुरू कराया। लेकिन विभाग व ठेकेदारी के कमीशनखोरी के चलते तीन वर्ष गुजरने के बाद 2018 में भी कार्य पूरा नहीं होकर अधर में लटका हुआ है।

जबकि निर्वतमान डीएम सुरेंद्र सिंह ने एजेंसी को कड़ी फटकार लगाकर जल्द काम पूरा कराने के निर्देश दिए थे। शासन ने 2015 में भवन निर्माण को दो करोड़ 47 लाख 72 हजार रुपये की मंजूरी दी थी। लेकिन निवर्तमान आई ए एस अधिकारी एस डी एम मनीष बंसल ने ठेकेदार से तालमेल न बनने पर आपत्ति लगाकर टी ये सी जांच के लिए डी एम को रिपोर्ट भेज दी थी। तबसे एक वर्ष गुजरने वाला है। निर्माण कार्य में महंगाई आडे आने पर एजेंसी ने हाथ खड़े कर दिए हैं। तथा अतिरिक्त साठ लाख रुपये की मांग की है।इस पर तहसीलदार विजय कुमार से पूछने पर बताया कि जांच में केवल तीन ईटे पीली निकली है। जिसकी रिपोर्ट शासन को भेजी गई है।उधर एस डी एम ने सूरज यादव ने बताया कि इसके लिए डी एम साहब को अवगत कराया गया है। और ठेकेदार को नोटिस जारी की गई है। जल्द नये भवन का निर्माण कार्य शुरू होगा

रिपोर्ट – राजेंद्र आजाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here