बिजली विभाग की लापरवाही के चलते लगातार हो रही है दुर्घटनाएं

0
134

प्रतीकात्मक फोटो

सुल्तानपुर : बिजली विभाग की लगातार लापरवाहियों के चलते क्षेत्र में लगातार मौतें हो रही है। फिर भी कोई सबक नहीं सीख रहा है। बिजली महकमा बिजली कर्मचारियों को सिर्फ बैठे-बैठे ही तनख्वाह मिलता रहे। फिर चाहे क्षेत्र में मौते हो या दुर्घटनाएं हो या फिर कुछ भी हो इससे कोई लेना-देना नहीं इन्हें सिर्फ माह की आखिरी समय में तनख्वाह और प्रतिदिन शराब के लिए केबल जोड़ने का सौ रुपया मिलना चाहिए।

बिजली विभाग कर्मचारी लगातार गरीबों के जेब पर डाका डाल रहे हैं। तो वहीं उच्चाधिकारी बिजली बिल ना जमा करने का हवाला देकर दुर्घटनाओं को टाल मटोल कर रहे हैं। बिजली विभाग के कर्मचारी दुर्घटनाओं को लेकर सिर्फ खाना पूर्ति ही करते हैं । इब्राहिमपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्रामसभा अवसानपुर बरवईयां में दो दिन पूर्व अर्थ का तार टूटने की वजह से आपूर्ति बंद हो गई थी जिसमें शिकायत करने के बाद बिजली कर्मचारियों ने आकर के अर्थ को मेन में जोड़ दिया जिससे कई घरों की आपूर्ति में मेन और अर्थ में मेन आपूर्ति आने लगा, जिसकी वजह से बुधवार की रात्रि लगभग नौ बजे अवसानपुर निवासी राजबली पुत्र फागू यादव की एक साल की गाय की बछिया की करंट लगने से मौत हो गई। इस विषय पर जब अधिशाषी अभियंता टाण्डा से बात किया गया तो उन्होंने कहा कि लोग बिजली का बिल जमा नहीं करते सिर्फ दुर्घटनाओं पर ही चिल्ल-पों करते रहते हैं। आखिर ग्रामीणों को बिजली बिल जमा न करने की वजह से क्या सिर्फ मौते ही मिलेंगी। आखिर बिजली विभाग के कर्मचारी कब तक अपनी जिम्मेदारियो से भागते रहेगे। बिजली कर्मचारियों की उदासीनता के चलते पूर्व में  रामकेश अवसानपुर निवासी का 12 वर्ष के पुत्र की मौत हो गई थी जिसमें आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। वही शाहपुर गांव में बिजली उतरने के कारण कई लोग बिजली की चपेट में आने की वजह से घायल हो गए थे। यही नहीं, ऐनवा के थनुवापुर गांव में मेन आपूर्ति आने के कारण एक भैस की मौत हो गई थी। पूर्व में दशरथपुर गाँव में भी एक महिला की मौत हो गई थी। आखिर कब तक बिजली विभाग लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ करता रहेगा। बिजली विभाग के कर्मचारियों की लापरवाही को उनके उच्चाधिकारी अनदेखी करते हुए उल्टे ही ग्रामीणों पर आरोप लगाते हैं बिजली का बिल नहीं जमा कर रहे हैं। अधिशाषी अभियंता को मौतें नहीं सिर्फ बिजली बिल दिखाई पड़ता है। तो वहीं बिजली विभाग के सरकारी और प्राइवेट लाइनमैन लगातार गरीबों की जेबों पर भी डाका डालते हैं सौ रुपए लेकर के केबल जोड़ते हैं। यह नहीं देखते हैं कि कहां पर तार कैसे जुड़ा है सिर्फ इन्हें मतलब रहता है पैसों से। नशे में धुत लाइनमैन अक्सर कुछ ना कुछ गलतियां करके लोगों की जिंदगी के साथ मजाक कर रहे हैं।

रिपोर्ट – दीपक मिश्र

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY