खरीदारी के नौ महीने बाद भी नहीं खाली हुआ सहकारी समिति का गोदाम

0
37

सुखपुरा/बलिया : गेहूं खरीद के 9 महीना बीत गए।अब तो धान की खरीदारी भी एक महीने से शुरू है ऐसे में साधन सहकारी समिति सुखपुरा का गोदाम आज भी सरकारी गेहूं की बोरियों से भरा हुआ है।जिसके कारण समिति रासायनिक खाद का उठान नही कर पा रही है। शासन कारण उनका गोदाम भरा है।शासन ने साधन सहकारी समिति को गेहूं खरीद का केंद्र बनाया था। जिसके तहत कुल 4750 कुंतल गेहूं की खरीद की गई।काफी प्रयास के बाद 3130 कुंतल गेहूं का उठान हो पाया। जिसमें 380 कुंतल गेहूं को सचिव पर दबाव डालकर प्रबंधक पीसीएफ द्वारा खुले बाजार में 1900 रूपये प्रति कुंतल की दर पर बेच दिया गया है। यही नहीं बिके गेंहू का मूल्य भी आज तक पीसीएफ के खाते में जमा नहीं किया गया है। अभी भी 1620 कुंतल गेहूं समिति के गोदाम में पड़ा हुआ है और अपने उठान का इंतजार कर रहा है।

इस बीच प्रबंधक पीसीएफ का एक मौखिक निर्देश समिति को मिला कि 1976 रुपए प्रति कुंतल की दर से 2000 कुंटल गेहूं का मूल्य पीसीएफ में जमा कर दें जबकि मार्केट रेट 1850 रूपये प्रति कुंतल है। ऐसे में 126 रूपये प्रति कुंतल का घाटा समिति कैसे बहन करेगी। यह विचारणीय प्रश्न समिति और समिति से जुड़े प्रशासक मंडल को बेचैन कर रहा है।दूसरी तरफ समिति के सभापति विजय शंकर सिंह ने 11अगस्त को मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश,12 अगस्त को जिलाधिकारी बलिया एवं 17 अगस्त को मुख्य सचिव खाद्य एवं रसद विभाग को पत्र लिखकर गेहूं के उठान की प्रार्थना की थी। बावजूद इसके अभी तक गेहूं का उठान नहीं हो पाया।श्री सिंह ने एक बार पुन: मुख्यमंत्री को भेजें शिकायती पत्र में इसकी जांच कर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई करने के साथ गोदाम को अ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here