ये है “भ्रष्ट”निर्दलीय प्रत्याशी

0
161

nirdaliy

गोरखपुर ब्यूरो : लोकतंत्र के सबसे बड़े त्योहार चुनाव मे अजब-गजब रंग देखने को मिलते है ये वो मौका है जब नेता गली-गली धूल फांकते और एक-एक वोट के लिए गुणा-गणित मे पसीना बहाते नजर आते है| इसे दंगल कहे, मुकाबला या चाहे जो कहे मुद्दा यह है कि देखने वाली पब्लिक को मजा बहुत आता है|एैसे ही चुनावी रंगो के बीच गोरखपुर मे एक रंग खुद को”भ्रष्ट”कहने वाले अरूण कुमार का सामने आया है जो निर्दलीय ताल ठोंकने की तैयारी मे है|

अरूण कुमार फर्टिलाइजर कारखाना क्षेत्र मे रहते है,उम्र करीब(४५)साल|कहते है कि पढ़ाई-लिखाई के बाद नौकरी खोज-खोज कर थक गये तो उम्मीद छोड़ दी|खुद को भ्रष्ट बताने के पीछे सोच क्या है?इस सवाल पर अरूण कुमार कहते है कि चूंकि सभी प्रत्याशी खुद को इमानदार साबित करने लगे है इसलिए उस होड़ मे न पड़ते हुए उन्होने खुद को भ्रष्ट घोषित कर दिया|अब कम से कम कोई दूसरा उन पर”भ्रष्ट”होने का आरोप नही लगायेगा|

अरूण रोज घर से निकलते है और शाम तक सड़कों पर घूम-घूम कर पर्चा बाटते है|पर्चे मे सबसे उपर”भ्रष्ट निर्दलीय प्रत्याशी पढ़ कर लोग चौक जाते इसके बाद अरूण उन्हे बताते है कि वह खुद को भ्रष्ट क्यों कह रहे है|यदि जीते तो गोरखपुर की कौन सी समस्याओं का समाधान करेगे|

रिपोर्ट-जयप्रकाश यादव

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY