ग्रामीण क्षेत्रों में आवासों के नाम पर बड़ा खेल उजागर

0
77

चकलवंशी/उन्नाव (ब्यूरो) जनपद के आलाधिकारियों पर राज्य सरकार का कोई खौफ नहीं अधिकारी अपने काले कारनामों पर अंकुश नहीं लगा पा रहे हैं | खंड क्षेत्रों में तैनात ग्राम पंचायत व विकास अधिकारी तथा प्रधान की मिलीभगत से आवासों में धांधली देखने को मिल रही ग्रामीणों का कहना है कि समस्त लोगों ने मुख्य विकास अधिकारी व खंड विकास अधिकारी से लिखित शिकायत की उसके बाद भी कोई जांच व कार्यवाही नहीं की गई।

विकास खंड सफीपुर क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत पावा में प्रधान पति राम सजीवन व ग्राम पंचायत अधिकारी विनोद कुमार वर्मा द्वारा जो आवास लाभार्थियों को दिये गये हैं, वो व्यक्ति आवास पाने के पात्र नहीं थे | वास्तव में गरीब व्यक्ति जो आवास पाने के पात्र थे उन व्यक्तियों को नहीं दिये गये, जिन व्यक्तियों को आवास दिये गये वह निम्न है राधे पुत्र भगवान् दीन इनका मकान पक्का बना होने के बाद भी दे दिया गया, दूसरे गुरु इनको सन 1990 में आवास मिला था पूरा मकान पक्का होने के कारण जो कालोनी बना रहे हैं वो प्रभा लाला के घर को खरीद कर बना रहे हैं

ग्रामीणों ने बताया कि माना जाय तो परिवार रजिस्टर में नाम भी दर्ज है ग्रामीणों ने कहा कि दीपू, संदीप पुत्रगण मंगल व संतोष सिंह व पुतान कोटेदार इनका मकान पक्का बना है | इन्हें नाजायज तौर पर आवास दिये जा रहे है, जबकि प्रार्थी राम प्रताप यादव व ग्रामीणों ने मिलकर खंड विकास अधिकारी अजय कुमार पाण्डेय को कई प्रार्थना पत्र ब्लाक स्तर पर दिये हैं लेकिन आज तक जांच नहीं की गई | ग्रामीणों ने मुख्य विकास अधिकारी टी. के. शीबू से गांव के लोगों ने लिखित शिकायत की थी उसके बाद भी न कोई जांच न कोई कार्यवाही की गयी ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है |

जिलाधिकारी अदिति सिंह से मांग की है कि जांच कराकर जो अपात्र व्यक्ति है उनके आवास कटवाये जाएं गरीब व्यक्ति जो आवास पाने के पात्र हैं उनको आवास दिलायी जाय।ग्रामीणों में चर्चा है कि प्रधान पति व मंत्री द्वारा धन की उगाही करके अवासों का चयन किया गया है।

रिपोर्ट – जितेन्द्र गौड़ 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here