कोर्ट ने हत्या के आरोपियों को सुनाई 10-10 साल की सजा

0
48

सुल्तानपुर (ब्यूरो)- रास्ते के विवाद को लेकर हुए जानलेवा हमले के मामले में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश चतुर्थ विनय कुमार सिंह की अदालत ने दो सगे भाइयों समेत एक ही परिवार के पांच लोगो को ठहराया दोषी|

अदालत ने बलबा व हत्या के प्रयास में सगे भाई राकेश कुमार, अखिलेश कुमार, इनकी माँ जनक दुलारी, कुसुमलता पत्नी राकेश, लीलावती उर्फ़ नीलम पत्नी उमेश को सुनाई 10-10 वर्ष के सश्रम कारावास व पांच-पांच हजार रूपये अर्थदंड की सजा|

अभियोजन पक्ष से शासकीय अधिवक्ता रमेश चंद्र मिश्र ने 8 गवाहों को किया पेश, दोषसिद्ध महिला आरोपियो को भी शासकीय अधिवक्ता ने कड़ी सजा से दण्डित किये जाने के लिए अदालत से की थी मांग, जिलाधिकारी के आदेश पर एसडीएम व सीओ आदि रामशंकर की शिकायत पर गए थे रास्ते से अतिक्रमण हटवाने|

अतिक्रमण हटाने के लिए मजदूर बुलाने जाते समय आरोपियो ने अपनी छत से अभियोगी रामशंकर ओझा पर ईंट-अद्धे फेककर किया था जानलेवा हमला, राजस्व विभाग के अधिकारियो व पुलिस की मौजूदगी में ही 17 जनवरी 2011 को शाम करीब 4 बजे हुआ था जानलेवा हमला|

हमले में अभियोगी के सिर व आँख में आई थी चोटें, आरोप के मुताबिक इसी हमले में आई चोटों से चली गई थी अभियोगी के आँख की रोशनी, फिलहाल आँख से जुड़े आरोप के बावत अभियोगी नही पेश कर सका सटीक सबूत, जामो थाना क्षेत्र के सरमे गाँव का है मामला।

रिपोर्ट-संतोष यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here