सुल्तानपुर: विभिन्न मामलों में अदालत में हुई कार्यवाही

0
46

सुलतानपुर ब्यूरो- 1. बलबा व हत्या के प्रयास के मामले में तीन आरोपियों की तरफ से अपर जिलाजज षष्ठम की अदालत में जमानत अर्जियां पेश की गई। जिस पर सुनवाई के पश्चात सत्र न्यायाधीश जमाल मसूद अब्बासी ने आरोपियों की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

मामला कमरौली थानाक्षेत्र का है। जहां पर बीते 2 मई को हुई घटना का जिक्र करते हुए अभियोगी ने आरोपीगण दिनेश, शहरयार, राजू, मोइनुद्दीन, तुरकान, अशोक आदि निवासीगण सिठौली थाना कमरौली के खिलाफ बलबा व हत्या के प्रयास समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया। इसी मामले में आरोपी अशोक, फुरकान व दिनेश की तरफ से एडीजे षष्ठम की अदालत में जमानत अर्जी पेश की गई। जिस पर सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष ने आरोपों को निराधार बताया। वहीं शासकीय अधिवक्ता राम नेवल यादव ने अपराध को अत्यंत गंभीर बताते हुए जमानत पर विरोध जताया। तत्पश्चात न्यायाधीश जमाल मसूद अब्बासी ने आरोपियों की जमानत अर्जी खारिज कर दी।

2. बहुचर्चित दलित रामजीत हत्याकांड में फरार चल रहे दो आरोपियो ने विशेष न्यायाधीश एससी-एसटी एक्ट की अदालत में आत्मसमर्पण किया।जिनकी रिमांड स्वीकृत कर न्यायाधीश उत्कर्ष चतुर्वेदी ने उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेजने का आदेश दिया है।

मामला जयसिंहपुर थाना क्षेत्र के रामनाथपुर गाँव से जुड़ा है। जहाँ के रहने वाले दलित रामजीत व उसके परिवारीजनो पर गाँव के महंथराम उर्फ़ जितेंद्र उपाध्याय पक्ष के लोगो ने बीते 14 जुलाई को हमला बोल दिया। जिसमें आई चोटो की वजह से रामजीत की ईलाज के दौरान मौत हो गई। इस मामले में पुलिस ने रामजीत के भतीजे की तहरीर पर महंथराम समेत 5 लोगो के विरुद्ध गैर इरादतन हत्या समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। परिजनों के विरोध के पश्चात पुलिस ने गैर इरादतन हत्या की धारा को हत्या में तरमीम किया। इस मामले में आरोपी महंथराम पहले ही गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है, शेष आरोपी फरार रहे। मंगलवार को मामले में नामजद आरोपी मस्तराम उपाध्याय व संचित उपाध्याय ने भी विशेष न्यायाधीश एससी-एसटी एक्ट की अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। जिनकी न्यायिक रिमांड स्वीकृत कर अदालत ने उन्हें न्यायिक अभिरक्षा ने जेल भेजने का आदेश दिया है। मामले से जुड़े अन्य आरोपियो की भी तलाश में पुलिस जुटी हुई है।

रिपोर्ट- संतोष यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY