डालर नगरी के वोटरों पर चलेगा योगी के हिंदुत्व जलवा या दहाडेगी माया की हाथी

0
102

भदोही(ब्यूरो)– पूर्वांचल की राजनीति में कालीन नगरी भदोही की अपनी अलग पहचान है। वर्तमान में यहां समाजवादी पार्टी का कब्जा है। लेकिन चुनावी महासमर को अपने कब्जे में करने के लिए सभी ने मतदाताओं पर जादू डाला है। राजनीतिक दलों ने जाति-धर्म का हरमंत्र अपनाया है। विकास के लिए फिल्मी सितारों को भी चुनाव में उतरा गया। अमितशाह, सीएम अखिलेश, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, योगी, मायावती, कलराज मिश्र, मनोज तिवारी, रवि किशन जैसे नेताओं ने वोटरों को लुभाने के लिए पूरी कोशिश किया। 08 मार्च को इनकी अग्नि परीक्षा है। अब देखना होगा वोटरों पर इस जादू का कितना असर होता है। अब देखना होगा की वोटरों पर नेताओं का जादू कितना चलता है। यह 11 मार्च को साबित होगा।

भाजपा ने भदोही में कमल खिलाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है। अंतिम दिन पार्टी के राष्टीय अध्यक्ष अमितशाह ने भी मतदातओं को सोर दिलासे दिलाए। ठाकुर मतों को लुभाने के लिए राजनाथ सिंह भी आए। इसके अलावा युवाओं पर डोर डालने के लिए मनोज तिवारी और भोजपुरी स्टर रवि किशन भी आए। हिंदुओं और ब्राहमणों को लामबंद करने के लिए योगी आदित्यनाथ और कलराज मिश्र की बुलाए गए। वहीं समाजवादी पार्टी भी पीछे नहीं दिखी। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, उनकी पत्नी डिम्पल, आमज खां जैसे लोग भी पहुंचे। जबकि बसपा में खुद मायावती, सतीश मिश्र और इंद्रजीत सरोज जैसे नेताओं ने मतदाताओं को बसपा सरकार बनने का भरोसा दिलाया। लेकिन इस पूरे महौल में मुलायम सिंह नदारत दिखे। लेकिन अखिलेश की लोकप्रियता जातिय समाज में खासी दिखी। वहीं छोटे दलों की तरफ से भी अपनी चुनाव अपने पक्ष में रखने के लिए पूरी तागत झोंकी गयी है।

रिपोर्ट- राजमणि पाण्ड़ेय
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY