डीएपी गायब किसान परेशान, प्राइवेट दुकानों पर लेने को हुए विवश

0
58

चकिया/चन्दौली ब्यूरो- धान के कटोरे के रुप मे ख्याति प्राप्त इस तहसील के किसानों की हालत डीएपी के अभाव में पतली होने के कागार पर पहुँचती नजर आ रही है, क्योंकि रोपाई के बाद जब किसान खाद लेने सरकारी प्रतिष्ठानों पर पहुँच रहे हैं तो वहां पहले से ही डीएपी खाद गायब होने के जबाब मिल रहे हैं, संचालको द्वारा किसानो को कोई सार्थक उत्तर नही दिये जा रहे है, यह समस्या केवल स्थानीय तहसील की नहीं है बल्कि पूरे जनपद की है, फिर भी न तो कोई सरकारी नुमाइन्दा इस समस्या को देख रहा है और न ही कोई जनप्रतिनिधि,परेशान किसान अपना काम किसी तरह प्राइवेट दुकानों से चला रहे हैं |

किसानो द्वारा अब कहा जाने लगा है कि अब तो सरकार के पास कोई बहाना नहीं है कि केन्द्र मे दूसरे की सरकार है अब तो यहाँ से लेकर दिल्ली तक एक ही पार्टी की सरकार है, फिर भी खाद किसानो को क्यों नहीं मिल रही है, चुनाव में किये गये इनके वादे कही भी धरातल पर नहीं दिख रहे हैं, ऊपर से कृभको संचालक जो थोडी बहुत डीएपी रखे हैं वे खाद देकर किसानों को एहसान का ककहरा भी पढ़ा रहे हैं, परेशान किसानों ने खाद की किल्लत से जल्द छुटकारे के लिए जिला प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here