दर्जनों ग्राम सचिवालयों के बिल्डिंगें ध्वस्त होने के कगार पर, तो कई शौचालय व पशुशाला में तब्दील

0
41


बल्दीराय/सुल्तानपुर (ब्यूरो)- केंद्र व राज्य सरकारे जनमानस की समस्याओं के निराकरण  के लिए जनकल्याणकारी योजनाओं को जन-जन तक पहुचाने के लिए ,तथा विकासखंड कर्मियों की समुचित उपलब्धता  के लिए प्रत्येक ग्रामसभाओं में पंचायतभवन  का निर्माण करवाईं । किन्तु विभागीय भ्रष्टाचार ने तमाम ग्राम सचिवालयों को खंडहर ,अथवा पशुशाला और शौचालयों में तब्दील कर दिया है ,जिसे जिले के जिम्मेदारों ने नजरअंदाज कर दिया है ।

बल्दीराय तहसील अंतर्गत बल्दीराय व धनपतगंज विकासखंड में  दर्जनों पंचायत भवनों की दुर्दशा सरेआम देखी जा सकती है किंतु ये उपेक्षित खंडहर  ग्राम सचिवालय जिला प्रशासन अथवा विकासखंड के किसी भी जिम्मेदार को नही दिखाई दे रहे हैं । देखा जाय तो बल्दीराय के बिरधौरा ग्रामसभा में पुराना पंचायतभवन खंडहर है व गांव के दबंगो द्वारा छपरा तथा घूर रखकर कब्जा कर लिया गया है ।धनपतगंज  के पडरे के पुराना पंचायत भवन की भवन सामग्रियों को लोग धीरे -धीरे उठा ले गए ।शेष खंडहर पर लोगों ने कब्जा कर लिया है ।इसी क्रम में विनगी ग्रामसभा में  टूटेफूटे पंचायत भवन में लोग शौंचक्रिया करते हैं।  बड़नपुर , रामनगर ढबिया ,सहित दर्जनों ग्राम सभाओं में पंचायतभवन ग्राम प्रधान से लेकर जिला के साहबों तक के भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गए हैं ।कनेहटी  ग्रामसभा में आजभी पंचायत भवन नही है ।

       
प्रत्येक ग्राम सभाओं में ,सरकारी योजनाओं ,सुविधाओं की जानकारी तथा ग्राम पंचायत सचिव सहित कर्मचारियों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने की ,केंद्र व राज्य सरकार की मंशा को  “” ये “”जिम्मेदार तार तार कर रहे हैं। जब ग्राम सभाओं के विकास की नींव ही ध्वस्त है तो कैसे संभव होंगे गांवों के विकास ?दोनों तहसीलों की पंचायत भवनों की यदि निष्पक्षता पूर्वक उच्चस्तरीय जांच  कराई जाए तो मरम्मत व निर्माण में बड़े घपले का खुलासा हो सकता है ।

रिपोर्ट- दीपक मिश्रा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY