स्वतंत्रता दिवस को संकल्प दिवस के रूप में मानाने का निर्णय

0
99

धनबाद(ब्यूरो)- 12.08.2017 को उप विकास आयुक्त की अध्यक्षता में संकल्प दिवस से संबंधित बैठक आयोजित हुई। बैठक में निर्देषक जिला ग्रामिण विकास अभिकरण, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी तथा अन्य संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे। बैठक में जिला पंचायती राज पदाधिकारी ने बताया कि मंत्रीमंडल सचिवालय एवं निगरानी विभाग से प्राप्त पंत्राक के द्वारा भारत सरकार से प्राप्त दिशा-निर्देशों के आलोक में राज्य सरकार के द्वारा स्वतंत्रता दिवस समारोह (15 अगस्त 2017) को ‘‘संकल्प पर्व’’ के रूप में मनाये जाने का निर्णय लिया गया है।

उक्त निर्णय के आलोक में ग्रामीण विकास विभाग (पंचायती राज निदेशालय), झारखण्ड द्वारा निर्गत ‘‘संकल्प पत्र’’ छायाप्रति की प्रति जिला, पंचायत, ग्राम स्तर पर तथा सभी ग्राम सभा के सदस्यों को स्थानीय भाषा में उपलब्ध कराया जाना है। बैठक में उप विकास आयुक्त ने सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को निर्देश दिया कि 15 अगस्त को ग्राम स्तर पर प्रभात फेरी निकलवाना सुनिश्चित करेंगे।

प्रभात फेरी के उपरान्त ग्राम में झण्डोत्तोलन का कार्यक्रम होगें। साथ ही ग्राम सभा का भी आयोजन किया जाएगा। ग्राम सभा में ही संकल्प पत्र भरवा कर प्रखण्ड विकास पदाधिकारी प्राप्त करेगें एवं उसे जिला पंचायती राज पदाधिकारी को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे। गाँव में नये भारत के निर्माण एवं वर्ष 2022 में भारत कैसा उस विषय पर विचार विमर्श चर्चा की जाय। संकल्प पत्र निम्नांकित है। हम सब मिलकर संकल्प लेते है, एक नये भारत का। 1942 में हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने एक संकल्प लिया था, भारत छोड़ो का और 1947 में वह महान संकल्प सिद्ध हुआ,भारत स्वतंत्र हुआ।

हम सब मिलकर संकल्प लेते है, 2022 तक नये भारत के निर्माण का, हम सब मिलकर संकल्प लेते है, स्वच्छ भारत का। हम सब मिलकर संकल्प लेते है गरीबी मुक्त भारत का, हम सब मिलकर संकल्प लेते है, भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। हम सब मिलकर संकल्प लेते है, आतंकवाद मुक्त भारत का। हम सब मिलकर संकल्प लेते है, सम्प्रदायवाद मुक्त भारत का। हम सब मिलकर संकल्प लेते है, जातिवाद मुक्त भारत का। नये भारत के निर्माण के अपने इस संकल्प की सिद्धि के लिये, हम सब मन और कर्म से जुट जायेंगे।

रिपोर्ट-रामाशंकर प्रसाद

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY